इंटरनेशनल दिल्‍ली हिन्‍दी ब्‍लॉगर मिलन : कुछ अग्रिम नजारे आंखों से देखना चाहें तो सोने से पहले इस पोस्‍ट पर जरूर पधारें



इस नोटों की गड्डियों को हटाकर आयोजन स्‍थल की तैयारी की जानी है। इन सभी को लादकर रेलवे वैगन तक पहुंचाने के लिए ट्रक आमंत्रित हैं। अपने अपने ट्रक लेकर सुबह ही पहुंच जायें। एक कार भरके नोट बतौर पारिश्रमिक दिए जाएंगे।
रास्‍ता न भूल जाएं इसलिए नक्‍शा प्रस्‍तुत है। (ख्‍वाब ख्‍याल सीरीज)
image (जो सच है)


हेलमेट इसलिए भी जरूरी है। सूचना पक्‍की है कुमार जलजला, ढपोरशंख, पोलखोलू अपनी संपूर्ण बेनामी टीम के साथ मिलन समारोह में शिरकत कर रहे हैं। यह भी पता लगा है कि ये तीनों अपने साथियों के साथ इन नोटों की गड्डियों में छिपे बैठे हैं। ये कल ही बाहर आयेंगे। इन्‍हें यह धन कहां से मिला है, किसने इन्‍हें सुपारी दी है, कौन है जो चाहता है कि मानवता जिंदा न रहे। आप ढूंढते रहिए। (ख्वाब ख्‍याल सीरीज)

image

आज रात जो स्‍वप्‍न आएगा। उसमें यह सब स्‍थान दिखलाई देंगे। आप भी जल्‍दी ही सो जायें। सुबह जल्‍दी उठें और दौड़ पड़े जाट धर्मशाला की ओर।
आपका यह अनुभव हिन्‍दी ब्‍लॉगिंग जगत का ऐतिहासिक अनुभव होगा। आप देखेंगे कि किस तरह नकारात्‍मक प्रवृत्तिधारकों को सकारात्‍मकता की ओर उन्‍मुख किया जाता है।

13 टिप्‍पणियां:

  1. aap kahte hain toh jaldi so jaayenge

    par khwaab hame aaj ki raat aapke hi aaytenge..

    maze ki baat ye hai ki aap rok bhi nahin paayenge !

    उत्तर देंहटाएं
  2. शुभकामनाएँ...बिना देखे सोने जा रहे हैं दिन में ही. :)

    उत्तर देंहटाएं
  3. samay milaa to jarooor aayeinge is jaat-dharmshaalaa mein...

    उत्तर देंहटाएं
  4. अरे हमारे टकले पर निमंत्रण पत्र छपा है वाह वाह, शुभकामनाएँ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. जी
    मज़ा आ गया
    तो मैं कार भेज दूं

    उत्तर देंहटाएं
  6. शामिल तो हम भी होगे ...............कैसे यह वक़्त बताएगा !!

    उत्तर देंहटाएं
  7. @कुमार जलजला

    यार तुम्हारी हरकतों से तो उस ब्लॉगर की याद आ गई जो आईपीएल के पहले एडीशन में कोलकाता नाइटराइडर्स की अंदर की बातें ब्लॉग पर लिखता था...सब सोचते रहे वो ब्लॉगर कौन सा खिलाड़ी है, लेकिन उसकी पहचान आखिर तक नहीं खुल पाई...इसी तरह अब तुम कह रहे हो कि कल तुम ब्लॉगर्स मीट में मौजूद रहोगे...लेकिन तुम्हे कोई पहचान नहीं पाएगा...ये बात कह कर तुमने मेरे सामने एक धर्मसंकट पैदा कर दिया है...इस तरह तो ब्लॉगर्स मीट में जो जो ब्लॉगर्स भी पहुंचेंगे, उन सब पर ही शक किया जाने लगेगा कि उनमें से ही कोई एक कुमार जलजला है...मान लीजिए पच्चीस-तीस ब्लॉगर्स पहुंचते हैं...वैसे ब्लॉगवुड में इस वक्त पंद्रह से बीस हज़ार ब्ल़ॉगर्स बताए जाते हैं...यानि इन पंद्रह से बीस हज़ार से घटकर कुमार जलजला होने की शक की सुई सिर्फ पच्चीस-तीस ब्लॉगर्स पर आ जाएगी...तो क्या तुम इस तरह कल की मीटिंग में मौजूद रहने वाले दूसरे ब्लॉगर्स के साथ अन्याय नहीं करोगे...अविनाश वाचस्पति भाई से भी कहूंगा कि इस विरोधाभास को दूर किया जाए, अन्यथा पूरे ब्लॉगवुड में गलत संदेश जाएगा...


    जय हिंद..

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत बहुत शुभकामनाये कल की ब्लांगर मिटिंग के लिये अजी दो चार लोगो से आतंक मै आ रहे है आप लोग, डर तो उन्हे होना चाहिये कोई पहचान ना जाये उन्हे..तो कल के लिये फ़िर से शुभकामनाये

    उत्तर देंहटाएं
  9. हमारी भी शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  10. आप लोग मेरी वजह से ब्लागर मीट में आने का कार्यक्रम न छोड़े. वह तो अविनाश वाचस्पति साहब ने ही अपनी पोस्ट में लिखा था कि जलजला मौजूद रहेगा इसलिए मैं दिल्ली पहुंच गया था. अब लौट रहा हूं. आप सभी लोग लाल-पीली-नीली जिस तरह की टीशर्ट संदूक से मिले वह पहनकर कार्यक्रम में पहुंच सकते हैं.
    यह दुनिया बड़ी विचित्र है..... पहले तो कहते हैं कि सामने आओ... सामने आओ, और फिर जब कोई सामने आने के लिए तैयार हो जाता है तो कहते हैं हम नहीं आएंगे. जरा दिल से सोचिएगा कि मैंने अब तक किसी को क्या नुकसान पहुंचाया है. किसकी भैंस खोल दी है। आप लोग न अच्छा मजाक सह सकते हैं और न ही आप लोगों को सच अच्छा लगता है.जलजला ने अपनी किसी भी टिप्पणी में किसी की अवमानना करने का प्रयास कभी नहीं किया. मैं तो आप सब लोगों को जानता हूं लेकिन मुझे जाने बगैर आप लोगों ने मुझे फिरकापरस्त, पिलपिला, पानी का जला, बुलबुला और भी न जाने कितनी विचित्र किस्म की गालियां दी है. क्या मेरा अपराध सिर्फ यही है कि मैंने ज्ञानचंद विवाद से आप लोगों का ध्यान हटाने का प्रयास किया। क्या मेरा अपराध यही है कि मैंने सम्मान देने की बात कही. क्या मेरा यह प्रयास लोगों के दिलों में नफरत का बीज बोने का प्रयास है. क्या इतने कमजोर है आप लोग कि आप लोगों का मन भारी हो जाएगा. जलजला भी इसी देश का नागरिक है और बीमार तो कतई नहीं है कि उसे रांची भेजने की जरूरत पड़े. आप लोगों की एक बार फिर से शुभकामनाएं. मेरा यकीन मानिए मैं सम्मेलन को हर हाल में सफल होते हुए ही देखना चाहता हूं. आप सब यदि मुझे सम्मेलन में सबसे अंत में श्रद्धाजंलि देते हुए याद करेंगे तो मैं आपका आभारी रहूंगा. मैं लाल टीशर्ट पहनकर आया था और अपनी काली कार से वापस जा रहा हूं. मेरा लैपटाप मेरा साथ दे रहा है.

    उत्तर देंहटाएं
  11. एक बेहतरीन और आरोप-प्रत्यारोप रहित सफल मिलन के लिए शुभकामनाएं..
    भाई जलजला महाराज के लिए कहना चाहूंगा कि श्रीमान दुनिया में नकाब लगा कर जो लोगों को दुष्टों और खतरों से बचाते हैं उन्हें स्पाइडरमैन, बैट-मैन या फैंटम कहते हैं पर जो सिर्फ लोगों का ध्यान अपनी ओर आकर्षित करने के लिए, टाइम पास कराने या हंसाने के लिए चेहरे पर रंग पोत कर आते हैं और अपनी असलियत छिपाए रहते हैं उन्हें क्या कहते हैं??
    खैर छोड़िये जी.. मैं तो यही गाता हूँ आपके लिए कि- 'तुम्हारी भी जय-जय, हमारी भी जय-जय.... ना तुम हारे ना हम हारे.....'

    उत्तर देंहटाएं
  12. मेरे पास तो ट्राला ही है लेकर आ रहा हूं गडियां सम्भाल कर रख दें हमारे पास वायदा रहा अपने घर ठीक से पहुंचाऊंगा

    उत्तर देंहटाएं

आपके आने के लिए धन्यवाद
लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

 
Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz