ब्लोगोत्सव-२०१० : शोखियों में घोली जाए फूलों का शबाब

Posted on
  • by
  • ravindra prabhat
  • in
  • Labels:
  • आदरणीय मित्रों,

    स्थानीय स्तर पर उत्पन्न अपरिहार्य व्यवधान के फलस्वरूप ब्लोगोत्सव-२०१० के सत्रहवें दिन का कार्यक्रम अचानक स्थगित करना पडा, जिससे आपको असुविधा हुई ! यह हमारे लिए अत्यंत खेद का विषय है ....!

    आपको यह जानकर वेहद ख़ुशी होगी कि समस्त व्यवधान दूर कर दिए गए हैं और दिनांक २४.०५.२०१० से इस कार्यक्रम को पुन: पूर्व की तरह शुरू किया जा रहा है  !

    दिनांक २४.०५.२०१० को आयोजित कार्यक्रम का मुख्य आकर्षण इसप्रकार है -

    • आज की मॉल संस्कृति पर परिचर्चा जिसमें शामिल हो रही हैं सर्वश्री/ सुश्री सरस्वती प्रसाद, रश्मि प्रभा, रश्मि रविजा,शिखा वार्शनेय, वाणी शर्मा,मुकेश कुमार सिन्हा, राजीव रंजन सिन्हा, रवीन्द्र प्रभात आदि

    • ब्लॉग उत्सव पर शिखा वार्ष्णेय, संगीता स्वरुप और माला की टिप्पणियाँ

    • शमा का संस्मरण इन्हीं सीढियों से ...

    • बाघों के संरक्षण पर देवेन्द्र प्रकाश मिश्र का आलेख

    • चिराग जैन, अरुण चन्द्र राय,अशोक कुमार पाण्डेय, कवि कुलवंत, शील निगम आदि की कविताएँ

    • और भी बहुत कुछ ......२४ मई को सुबह ११ बजे से सायं ०५ बजे तक पूरे कार्यक्रम का संचालन-संयोजन-समन्वयन रश्मि प्रभा जी के द्वारा....."शोखियों में घोली जाए फूलों का शबाब"
    () ब्लोगोत्सव टीम

    1 टिप्पणी:

    आपके आने के लिए धन्यवाद
    लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

     
    Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz