जब दिल्‍ली में बिजली दौड़ जाती है तो हाथ के पंखे की सुहानी याद आती है (अविनाश वाचस्‍पति)


दिल्‍ली में कितनी बिजली जाती है
जरूर कोई खिड़की खुली रह जाती है
या खुला रह जाता है डोर
जिससे बिजली जाती है दौड़


अब से जो मकान बनायेंगे
खिड़की -दरवाजे नहीं लगायेंगे
हाथ के पंखे नहीं चलाने पड़ेंगे

लगता है इस बार तो
हाथ के पंखे खूब बिकेंगे
इश्‍तहार है हाथ के पंखों का
अपने आर्डर बुक कराएं
यह न हो कि सारे बुक हो जाएं
आपको पंखे न मिल पायें

9 टिप्‍पणियां:

  1. अगर दुखने लगा हाथ
    तो पंखे हिलाने वाले भी

    मिलेंगे साथ

    बेराजगारी कम करने में
    कुछ आपका भी होगा योगदान

    पंखे हिलाने वालों को भी

    मिल जाएगा कुछ काम

    अरे भाई । क्‍यों करते हो चिंता

    बिजली के बिल से

    आधे में ही कर देंगे काम


    वाह अविनाश सर बहुत खूब व्‍यंग्‍य लेकिन...

    गुस्‍ताखी माफ ।।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर कविता, ओर उस से भी सुंदर यह मेम जो अपने आप को हाथ के पंखे से हवा कर रही है, कुछ कुछ जा्नी पहचानी सी लग रही है...:)

    उत्तर देंहटाएं
  3. सही बात है जी...
    आज कल तो हाथ के पंखे की बहुत याद आती है जब आधी रात को बिजली जाती है...
    पंखी झलते झलते जब झपकी आती है...
    हाथ की पंखी अधंरे मे हाथ से छूट जाती है..
    पंखी को ढूंढने के चक्कर मे नींद रूठ जाती है..
    अब क्या करे कोई...

    उत्तर देंहटाएं
  4. बिजली जो जलती ही नही ।
    ऐसे में तो ये पंखा ही आयेगा काम ।
    उफ इस गरमी में कुछ तो मिला आराम।
    हाय राम !

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपका यह व्यसायिक रूप (माडल के रूप मे, चित्र में) पहली बार देखा. भला लगा, इस व्यवसाय में कब आये आप.

    उत्तर देंहटाएं
  6. करें भी तो क्या आदमी,
    हाथ के पंखे ही तो साथ रह जाते हैं.

    आज कल यही हाल है...चाचा जी

    उत्तर देंहटाएं
  7. हे भगवान, लेकिन ये कैसा पंखा है जो चीनी हथियार सा लग रहा है :)

    उत्तर देंहटाएं
  8. आप दिल्ली को रो रहे हैं
    कहीं कानपुर आ जाएँ
    तो ये भूल जी जाएँ
    कि जिसका हम बिल भरते हैं
    वो मीटर कब चल जाता है
    बिल हजारों में आ जाता है
    हम तो दिन में ऑफिस और
    रात में पति पर ,
    पंखा झलने का काम करते हैं (क्योंकि गर्मी में हमको ही नीद नहीं आती है)
    फिर भी ये तुर्रा कि--
    तुम हवा भी नहीं कर सकती हो
    अब बताये इससे तो दिल्ली बेहतर है
    सब पंखा तो अपने से झल लेते हैं
    यहाँ तो केसा को गाली देकर
    सब उठ कर छत पर चल देते हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  9. गर्मी आते ही आपने चेतावनी जारी कर दी !भगवान् न करे आपकी भविष्यवाणी सच हो जाये !शुभ शुभ बोलो भाई जी !

    उत्तर देंहटाएं

आपके आने के लिए धन्यवाद
लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

 
Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz