अलिखित....

Posted on
  • by
  • मयंक
  • in
  • लिखने

    और कुछ न लिखने

    के बीच

    फर्क सिर्फ

    कह देने

    और

    न कह देने सा है

    कुछ

    जो सोचा गया

    कभी

    कहा नहीं गया

    कुछ

    जो मन में चला

    कभी

    लिखा नहीं गया

    कुछ

    सोच कर भी

    अनकहा रहा

    कुछ

    जान कर भी

    अलिखित है

    आज तक....


    मयंक सक्सेना

    6 टिप्‍पणियां:

    1. सोच कर भी

      अनकहा रहा

      कुछ

      जान कर भी

      अलिखित है

      आज तक...

      सही है !!

      उत्तर देंहटाएं
    2. आपका चिंतन सही दिशा में है, जो सामने आये वही सच होता है.
      - विजय

      उत्तर देंहटाएं
    3. bahut kuch alikhit rah jata hai sirf bhavon mein hi bah jata hai.........bahut sundar prastuti.

      उत्तर देंहटाएं
    4. मैंने तो कह -लिख दिया बढ़िया है .

      उत्तर देंहटाएं

    आपके आने के लिए धन्यवाद
    लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

     
    Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz