ये लघु संदेश सेवा है , अरे एस एम एस है यार ...अजय कुमार झा

Posted on
  • by
  • अजय कुमार झा
  • in
  • Labels:


  • कुछ दिनों से मोबाईल में एस एम एस आ रहे थे , जाहिर है कि आपको भी आ रहे होंगे , मुझे कुछ को पढ को हंसी आई कुछ को पढ के नहीं आई , अब जरूरी तो नहीं कि मुझे नहीं आई तो और भी किसी को न आए , तो लीजीये न एक पोस्ट झेलिए ऐसी भी
    ________________________________________________________
    लपटन जी : सुना ,चांद पर पानी मिला है ...........


    झपटन जी :- ओह ये तो बहुत बडी खबर है, बस इतना और पता चल जाए कि नमकीन, गिलास और दारू यहीं से ले के जाना पडेगा कि वो भी ........

    ________________________________________________________
    एक इश्वरीय संदेश :-
    तू करता वो है जो तू चाहता है , मगर होता वो है जो मैं चाहता हूं , तू वो कर जो मैं चाहता हूं , फ़िर वही होगा जो तू चाहता है ....

    ______________________________________________________________________________

    लपटन जी ने अपनी प्रेमिका का फ़ोन लेकर देखा कि आखिर मिस लपटन ने उनका नंबर किस नाम से सेव कर रखा है .......जानू, डीयर , मिस्टर ......अरे नहीं लिखा था ........टाईम पास नंबर ....आठ

    _______________________________________________________________________________

    दोस्त रूठे तो रब रूठे ........

    दोस्त फ़िर रूठे तो जग छूटे,

    दोस्त फ़िर रूठे तो ......

    चप्पल मारो साले को रोज का एक ही ड्रामा
    ____________________________________________________________________________

    मेरे भाई कभी याद किया करो,

    यार कभी कभी तो मिल लिया करो,

    सिर्फ़ जनाजे में आना दोस्ताना नहीं होता

    _______________________________________________________________________________

    लपटन जी ने अपनी लपटानी से कहा, ओ जाने तमन्ना हटा लो ये जुल्फ़ें अब तो ,,,,,,जो अब खाने में मिला एक भी बाल तो खुदा कसम .........सजनी से सीधा , गजनी बना दूंगा ....

    ______________________________________________________________________________

    लपटानी की बेटी सयानी ने शादी के अगले दिन श्रीमती लपटानी को फ़ोन किया , "मां , मेरी इनसे लडाई हो गई है ?

    श्रीमती लपटानी, " कोई बात नहीं बेटा, घबराने की कोई बात नहीं , सब ठीक हो जाएगा ॥

    सयानी : " मां, वो तो ठीक है , मगर अब ये तो बताओ कि इनके लाश का क्या करूं ????
    ______________________________________________________________________________

    इंसान की चार मां होती हैं

    एक जिसने पैदा किया ,
    एक वो जिसने पढाया ,
    एक सासू मां , और

    चौथी वो जिसके लिए मम्मी कहती है ," ओये कंजरा,राति दो बजे , केडि मा नाल गल्ला मारि जान्दा है "

    _______________________________________________________________________________

    लपटन जी अपनी प्रेमिका से , " यार तुम चाईनीज़ जैसी क्यों दिखती हो ?

    प्रेमिका ," क्योंकि मेरे पिता चाईनीज़ थे , इसलिए ।

    लपटन जी ," अच्छा अच्छा, अब वे कहां हैं ?

    प्रेमिका ," वे तो मर गए ।

    लपटन जी ," हां , भई आखिर चाईना का माल था चलता भी कितना
    _______________________________________________________________________________
    टीचर जी : लपटन translate करो,"बाजार में गोलियां चल रही थीं "

    लपटन काफ़ी सोचने के बाद " the tablets are walking in the market "

    _____________________________________________________________________________



    अरे बस जी , अभी तो मोबाईल भी है और मैसेज भी बाकी फ़िर कभी

    9 टिप्‍पणियां:

    1. हम ऐसे लोगो को एस एम एस वीर कह्ते है .. हमारे मोबाइल पर आया एस एम एस का एक नमूना यह भी देखिये
      ज़िन्दगी है तो ख्वाब है
      ख्वाब है तो मंज़िले हैं
      मंज़िले हैं तो रास्ते हैं
      रस्ते हैं तो मुश्किले हैं
      मुश्किले हैं तो हिम्मत है
      और हिम्मत है तो एस एम एस करो ना यार
      ****** कहिये अब जावेद अख़्तर साह्ब तो अपना सिर पीट लेंगे ?

      उत्तर देंहटाएं
    2. मजे दार जी बहुत सुंदर हंस हंस कर पेट दुखने लगा

      उत्तर देंहटाएं
    3. हा हा!! बहुत मजेदार!

      दोस्त रूठे तो रब रूठे ........

      दोस्त फ़िर रूठे तो जग छूटे,

      दोस्त फ़िर रूठे तो ......

      चप्पल मारो साले को रोज का एक ही ड्रामा


      --आनन्द आ गया!

      उत्तर देंहटाएं
    4. इन एस एम एस में तो मजा आ गया। बहुत ही अच्छॆ।

      उत्तर देंहटाएं
    5. अब ये भी पढ़ लीजिए।
      यहां भी खुदा है वहां भी खुदा है

      आगे भी खुदा है पीछे भी खुदा है

      और जहां नहीं खुदा है

      सब्र करो वहां भी खुद जाएगा


      एक और झेलिए


      तू एसएमएस एसएमएस करती है

      एसएमएस से क्‍यों नहीं डरती है

      एसएमएस की लगा दूंगा ढेरी

      जो तू हो जाए मेरी

      उत्तर देंहटाएं
    6. अच्छे SMS पाने के लिए अच्छे लोगो से वास्ता रखना सीखिए ...:)

      उत्तर देंहटाएं
    7. हम क्या कहें भाई!
      हम तो S.M.S. न कभी पढ़ते हैं और न कभी लिखते हैं।

      उत्तर देंहटाएं

    आपके आने के लिए धन्यवाद
    लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

     
    Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz