अभिव्‍यक्ति साप्‍ताहिक पत्रिका में काले का बोलबाला (अविनाश वाचस्‍पति)

Posted on
  • by
  • अविनाश वाचस्पति
  • in
  • Labels:
  • आज दुनिया भर में काले बनने बनाने का फितूर छाया हुआ है। अभी कुछ अर्सा पहले तक जो कंपनियाँ गोरेपन को तरह-तरह की क्रीमों के जरिए भुना रही थीं, उन सभी को सावधान हो जाना चाहिए। नई क्रीमें बाज़ार में निकल पड़ी हैं जो कहती हैं- कालिमा क्वीन, ब्लैक एंड लवली क्रीमों को अपने चेहरों पर पोतें और इतने चमकदार हो जाएँ कि गोरापन भी शर्मा जाए।

    साल भर पहले अमेरिका में ओबामा के राष्‍ट्रपति बनने से रंगों के क्षेत्र में जो काली क्रांति हुई है उसने दुनिया को पलटकर रख दिया है। चहुँ ओर काले का बोलबाला हो गया है। ओबामा ने इस बरस शांति का नोबेल पुरस्‍कार प्राप्त कर के इस बात को और भी पक्का कर दिया है कि काले का महत्त्व गोरे से कितना अधिक है। काले रंग की इस बहार से हर रंग उड़ता हुआ नज़र आ रहा है। हरी भरी सब्ज़ियों का ज़माना बीतने को है। जल्‍दी ही काली काली ज़ायकेदार पौष्टिक सब्ज़ियाँ आपको सब्‍ज़ी मंडी रस आ रहा हो तो पूरा पढ़ने के लिए क्लिक कीजिएगा

    10 टिप्‍पणियां:

    1. अविनाश जी-जन्म दिन की बधाई एवं हार्दिक शुभकामनाएँ...

      उत्तर देंहटाएं
    2. सुन्दर प्रविष्टि ! आपको जन्मदिन की शुभकामनायें ।

      उत्तर देंहटाएं
    3. वैसे एशिया में यह क्रांति आना संभव नहीं और अमेरिका में तो टेन होने का फैशन है.
      कल ही टीवी पर शाहरुख गोरे बनाने वाली क्रीम का विगयापन देते नज़र आए हैं.सब से अधिक बिक्री इस तरह की क्रीमो की एशिया में ह्िॉ होती है.
      -------------------------------
      जन्म दिन की बधाई एवं शुभकामनाएँ.

      उत्तर देंहटाएं
    4. sahi hai goron ki na kalon ki duniyaan to hai dilwalo ki!!! aur jam din ki hardik badhaiyaa!!!

      उत्तर देंहटाएं
    5. ab jakar yah geet hazam ho rahaa he ki-
      ham kaale he to kyaa hua dilvaale he...////
      kher..
      bahut badhiya vyangy..janmdin he aour hame batayaa bhi nahi..kya yah bhi vyangy to nahi???...vese meri aour se aatmiya shubhkamnaye..svikaar kijiye.

      उत्तर देंहटाएं
    6. बहुत खूब बेहतरीन रचना
      आभार

      उत्तर देंहटाएं
    7. Avinashji,der se sahi,janam dinkee badhayi sweekar karen!

      Alpnaji se sahmat hun!

      उत्तर देंहटाएं

    आपके आने के लिए धन्यवाद
    लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

     
    Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz