प्रभाष जोशी यहीं हैं और यहीं रहेंगे (अविनाश वाचस्‍पति)

Posted on
  • by
  • अविनाश वाचस्पति
  • in
  • Labels: ,

  • प्रभाष जोशी
    एक देह का नहीं रहना
    विचार है अपना गहना

    देह का जाना
    सब कुछ चुक जाना
    नहीं होता है।

    देह नहीं है
    पर विचार यहीं हैं
    वे सदा बरसते रहते हैं।

    विचार नहीं जाते
    वे मानस में
    बस जाते हैं
    सत्‍यमार्ग दिखाते हैं
    हम देह से ही
    मार खाते हैं
    देह से विजय पाते हैं।

    हार नहीं सकते हम
    न हारेंगे कभी हम
    जीतते रहेंगे सदा हम।

    प्रभाष जोशी जी को नुक्‍कड़ की विनम्र श्रद्धांजलि।

    27 टिप्‍पणियां:

    1. हाँ सुबह सुबह ये बुरी खबर पढने को मिली. दुःख हुआ. भगवन शांति दे.

      उत्तर देंहटाएं
    2. पत्रकारिता का एक मजबूत स्तंभ ढह गया। विनम्र श्रद्वांजलि।

      प्रमोद ताम्बट
      भोपाल
      www.vyangya.blog.co.in

      उत्तर देंहटाएं
    3. जान कर आघात लगा। विनम्र श्रद्धाँजलि।

      उत्तर देंहटाएं
    4. jee.bahut dukh hua.............. shradhdhajaanjali........

      उत्तर देंहटाएं
    5. प्रभाष जोशी जी विचार हैं और विचारों की कभी मृत्‍यु नहीं होती । मेरी विनम्र श्रद्धांजलि ।

      उत्तर देंहटाएं
    6. aise samay main jab patrkaarita corporates se disha nirdesh paati ya niyojit ho rahi hai .. PRABHASH jee hamesha nidarta aur nirbheekta se swatantra se likhte rahe wo hindi patrkaarita ke ek mazboot khambhe thhe.. meri shraddhanjli..anwar jamal

      उत्तर देंहटाएं
    7. प्रखर विचार हमेशा जिन्दा रहेंगे ...
      विनम्र श्रद्धांजलि ...!!

      उत्तर देंहटाएं
    8. दुखद समाचार था, उनके लिये हमारी विनम्र श्रद्धां‍जलि ।

      उत्तर देंहटाएं
    9. विनम्र श्रद्धाँजलि...

      उत्तर देंहटाएं
    10. बहुत ही दुखद खबर है
      लेकिन शायद अच्छे लोगो की वहा भी जरूरत है

      उत्तर देंहटाएं
    11. बहुत दुःख हुआ। कल मैंने इनका ई—मेल आईडी गूगल पर बहुत खोजा परन्तु मुझे प्राप्त नहीं हुआ। क्योंकि समाचारसफ़र पत्र में इनके दिवंगत पत्रकार होने की खबर थी। मैं इनको मेरे साथ हो रहे अन्याय के बारे में बतलाना चाहता था और मदद माँगना चाहता था पर अभी यह खबर दुःखी कर गई। अब किस पत्रकार को लिखूँ के वह मुझे न्याय दिलाये! विनम्र श्रद्धां‍जलि।

      उत्तर देंहटाएं
    12. बेहद दुखद खबर ! मेरी विनम्र श्रृद्धांजलि !

      उत्तर देंहटाएं
    13. सभी मैनपुरी वासीयों की ओर से जोशी जी को शत शत नमन और विनम्र श्रद्धांजलि !

      उत्तर देंहटाएं
    14. सही कहा आपने, प्रभाष जोशी जी अपने लेखन के माध्यम से हमारे बीच रहेंगे ही। उनको विनम्र श्रद्धांजली। ईश्वर उनकी आत्मा को शांति प्रदान करे॥

      उत्तर देंहटाएं
    15. निश्चित ही प्रभाष जी जैसे व्यक्ति का जाना बेहद कष्टकारी समाचार है.

      मेरी विनम्र श्रृद्धाजंलि.

      चन्देल

      उत्तर देंहटाएं
    16. हां एक सच्चा साहित्यकार और पत्रकार अपनी लेखनी से खुद को अमर कर लेता है और ऐसे ही थे प्रभाष जोशी ..
      हमारा भी उनको नमन और श्रद्धांजलि..

      उत्तर देंहटाएं
    17. subah hi khabar mili thi, dukh hua. kintu jeevan ka yah satya he aour isase muh nahi moda jaa sakata. mere bhi unake saath kuchh sansmaran jude hue he...kher..ab yahi to saath he.
      एक देह का नहीं रहना
      विचार है अपना गहना..
      shradhdhanjali samarpit.

      उत्तर देंहटाएं
    18. पत्रकारिता के एक सशक्त प्रहरी को मेरा सलाम

      विनम्र श्रद्वांजलि

      उत्तर देंहटाएं
    19. prabhash ji ki pahoonch kitni vistarit thi. Ham kasbai patrakaar bhi unke saath bitaye avsaron ko yaad kar rahe hain is mauke par. Hamara soubhagya hai ki hamne apni peedhi men unhe paa liya.
      Rajesh Agrawal.

      उत्तर देंहटाएं
    20. प्रभाषजी के निधन की खबर जानकर दुख हुआ . लेकिन यह समय - असमय आने वाला ऎसा सत्य है जिसे स्वीकारने के अतिरिक्त हमारे पास और कोई ऑप्शन नहीं है .किंतु ये भी सत्य है कि प्रभाष जी आज भले ही हमारे बीच नहीं रहे मगर उनकी सशक्त और बेबाक लेखनी हमेशा हमारे बीच रहेगी . अविनाशजी की श्रद्वांजलि कविता का एक - एक शब्द मर्मस्पर्शी है , मगर ये चंद लाइनें बहुत कुछ कह गई है ---
      देह नहीं है
      पर विचार यहीं हैं
      वे सदा बरसते रहते हैं।

      विचार नहीं जाते
      वे मानस में
      बस जाते हैं
      सत्‍यमार्ग दिखाते हैं
      हम देह से ही
      मार खाते हैं
      देह से विजय पाते हैं।
      पत्रकारिता के एक मजबूत स्तम्भ और अपनी लेखनी के लिए जाने पहचाने जाने वाले प्रभाष जोशी जी को मेरी विनम्र श्रद्वांजलि।

      उत्तर देंहटाएं
    21. देह का जाना
      सब कुछ चुक जाना
      नहीं होता है।

      bilkul sahi baat hai joshi ji ka sahitya unke vichar sabkuch to yahin hai, jo kabhi mar nahi sakte.
      विनम्र श्रद्धांजलि ...!!

      उत्तर देंहटाएं
    22. बहुत ही दुखदायी क्षति है. खासकर हम इंदौर वासीयों के लिये.

      कल उनके पैतृक निवास मोती तबेला पर जमी भीड नें ये सिद्ध किया कि उनका कद कितना बडा है.

      उत्तर देंहटाएं

    आपके आने के लिए धन्यवाद
    लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

     
    Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz