दिल्‍ली पुस्‍तक मेले में पप्‍पू (अविनाश वाचस्‍पति)

Posted on
  • by
  • अविनाश वाचस्पति
  • in
  • Labels: , , ,

  • दिल्‍ली पुस्‍तक मेले में
    कल घूम रहा था पप्‍पू
    एक प्रख्‍यात प्रकाशक के
    स्‍टॉल पर एक विक्रेता ने
    पप्‍पू को पहचान लिया
    और बोला
    यह पुस्‍तक ले जाइए
    एक बार पढ़ना शुरू करेंगे
    तो दिन का चैन और
    रातों की नींद उड़ जाएगी ?

    पप्‍पू ने तुरंत दिया धन्‍यवाद
    मुझे ऐसी किसी पुस्‍तक की
    कोई जरूरत नहीं है महाशय
    मैं शादीशुदा हूं।

    अब आपको बतलाना है
    विक्रेता ने पप्‍पू को
    जो पुस्‍तक खरीदने की
    दी थी सलाह
    उसका नाम था क्‍या ?

    17 टिप्‍पणियां:

    1. हम क्या बतलायें आप ही शाम तक बतला देंगे पप्पू कहाँ चुप रह सकता है

      उत्तर देंहटाएं
    2. नाम बताने लायक ही नहीं है. क्योंकि नाम बता देंगे तो सभी लोग जान जाएंगे और सबकी नींद उड़ जाएगी.

      उत्तर देंहटाएं
    3. बड़ा ही बेहूदा प्रकाशक रहा होगा जो पप्पू को पहचानने के बाद भी किताब बेचने की कोशिश कर रहा था

      उत्तर देंहटाएं
    4. "मै, मेरी शादी और साहित्य"
      --अविनाश वाचस्पति

      उत्तर देंहटाएं
    5. 1. पप्पू बन गया जेंटलमैन
      2. सुयोग्य जीवन साथी कैसे ढूंढें
      3. AVOID GIRLS SAVE PETROL
      4. उपरोक्त में से कोई नहीं

      :-)

      उत्तर देंहटाएं
    6. Jaswant singh ji dwaaraa sampadit ZZZZZIIIIINNNNNNNNNNAAAAAHHHHH.
      jhalli-kalam-se

      उत्तर देंहटाएं
    7. वाह जी वाह ये भी खूब रही। वैसे गए थे दिल्ली पुस्तक मेले और फोटो विश्व पुस्तक मेला का लगा दिया है लगता है ये सब कमाल उसी किताब का है।

      उत्तर देंहटाएं
    8. वाह अविनाश जी 500 वीं पोस्‍ट अपने नाम लगाने का आपने अच्‍छा बहाना ढूंढा।
      बधाई।

      उत्तर देंहटाएं
    9. अजी मै कैसे बता सकता हूँ (जानता हूँ)
      मै भी तो शादीशुदा हूँ.

      उत्तर देंहटाएं
    10. नहीं नहीं नहीं
      कोई किताब नहीं
      क्‍यों परेशान होते हो
      क्‍यों मन पर बोझ ढोते हो
      किसी की ताब नहीं
      जो इनको किताब देदे
      नाहक परेशान न होना
      सोचना छोड़ दो
      कि दिन की नींद और रात का चैन
      कहां चला जायेगा

      उत्तर देंहटाएं
    11. अब पप्पू है तो कुछ वैसा ही होगा

      उत्तर देंहटाएं
    12. — कोई भरोसा नहीं किसी का चाहे प्रकाशक ही क्यों न हो ... "पप्पू समझ गया" ... दिल्ली से जो है ... कुछ भी हो सकता है|

      उत्तर देंहटाएं
    13. sabko ullu banana chahta hai pappu kyoki ullu ki rat ki need haram hoti hai. par banta koi nahi.

      उत्तर देंहटाएं

    आपके आने के लिए धन्यवाद
    लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

     
    Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz