शादी के कार्ड पर क्यों, एक्सपायरी डेट नहीं होती ....?

Posted on
  • by
  • अजय कुमार झा
  • in
  • Labels:




  • टल्ली होने को,
    टके का मोल नहीं होता,
    इसीलिए दारु के बोतल पे,
    लिखी कोई रेट नहीं होती....

    जो मिलते थे सुबहो-शाम,
    कभी राम-राम, कभी दुआ सलाम,
    अमा उधारी कए दे दी उनको,
    अब कभी उनसे यूँ भेंट नहीं होती..

    लालू जी फरमाते हैं, हम,
    हमेशा नए आईडिये लाते हैं,
    सब रेलगाडी में मेट्रो ट्रेन का इंजन लगा दो,
    काहे से की, ऊ कभी लेट नहीं होती.....

    पहले था सिर्फ दूर का दर्शन,
    चैनल बढ़ गए , हो गयी टेंशन,
    दिन भर रिमोट पर फिरती हैं उंगलियाँ,
    कमबख्त किसी एक जगह सेट नहीं होती....

    नाम,पता, और दिन जगह,
    खाना-पीना, रुकना-जाना, सब होता है लिखा,
    फिर शादी के कार्ड पर क्यों,
    सिर्फ एक्सपायरी डेट नहीं होती...

    कई बार हुई है लानत-मलामत,
    उससे भी बढ़कर थूकम -फजीहत,
    ये तो हद है बदकिस्मती की हमारी,
    बेइज्जती भी तो भर पेट नहीं होती....

    11 टिप्‍पणियां:

    1. लगता है पहले एक्‍सपायरी डेट लिखवाओगे
      फिर वैट लगवाओगे
      कार्ड को छपने के बाद भी
      कैशमीमो सहित बिकवाओगे
      मैन्‍यूफैक्‍चरिंग डेट पहले छपवाओ
      उसके बाद बाकी प्रक्रियाएं पूरी करवाओ।

      उत्तर देंहटाएं
    2. ठीक है पेट भरने का इन्तज़ाम किया जाएगा :)

      उत्तर देंहटाएं
    3. हा..हा..हा..विवेक भैया..आप तो करबे कीजियेगा..शुरू कीजिये..हम भी सब अनाम सब को आपके पीछे हुस्श कर देंगे.....हा..हा..हा..

      उत्तर देंहटाएं
    4. एक्सपायरी डेट होती है न...पश्चिमी देशों को देख लो.
      बस इनता है कि कार्ड पर लिखते वो भी नहीं है पर , एक्सपायरी डेट शादी के रोज़ तय रहती है :-)

      उत्तर देंहटाएं
    5. यदि शादी के कार्ड पर एक्सपायरी डेट होती तो सारे शादी शुदा कुंवारे होते शायद आप भी हा हा हा बहुत बढ़िया जी .

      उत्तर देंहटाएं
    6. वाह अविनाश जी, आप तो लगता नहीं की कभी साधारण बोल बोलते होंगे | आप तो अगर गाली भी देंगे तो कविता में , गुस्सा भी आप कविता में ही करते होंगे|

      उत्तर देंहटाएं
    7. हा...ह्हा....हा...ह्हा...हा...ह्हा


      मज़ेदार

      उत्तर देंहटाएं
    8. इस कार्ड पे ऐसी expiry date लिख देना , अपने ही हाथ में होता है ( बुरा ना माने,तो पुरूष सत्तात्मक समाज में पुरुषों के हाथ में...!)...बाक़ी तो सारी 'expiry dates' अपने जनम के समय हम लेके ही आते हैं ..! हम उन्हें पढ़ नही पाते,ये अलग बात है...! खैर..आपकी रचना है बड़ी ज़ायकेदार....! शायद, मै बेकार में किंचित संजीदा हो गयी...!

      http://shamasansmaran.blogspot.com

      http://kavitasbyshama.blogspot.com

      http://lalitlekh.blogspot.com

      http://aajtakyahantak-thelightbyalonelypath.blogspot.com

      http://shama-baagwaanee.blogspot.com

      http://shama-kahanee.blogspot.com

      उत्तर देंहटाएं
    9. apki or avinash ji ki baat agar sach ho jaye to majaa jayega . kuch logo ki or berojgari dur ho jayegi. kuch shops or kuhl jayengi or unke board par likha hoga sadi ke vat par visesh chuth.

      ha ha ha

      उत्तर देंहटाएं

    आपके आने के लिए धन्यवाद
    लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

     
    Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz