पंद्रह अगस्त पर चकाचक की चकाचक आवाज

Posted on
  • by
  • Fazal Imam Mallick
  • in
  •  हर अदमी परेशान हौ, हर अदमी त्रस्त हौ,

    मारा पटक के जे कहे पंद्रह अगस्त हौ

    • चकाचक बनारसी   

    4 टिप्‍पणियां:

    1. बम चिक बम चिक बम फटे, लटे चकाचक बोल |
      अन्तर्मन की न सही, देते कलई खोल |
      देते कलई खोल , ढोल पीते हैं जाते |
      किलो जलेबी तौल, ढेर सी घर भिजवाते |
      करे प्रभात से फेर, थके सब छात्र छात्रा |
      मचा हुआ अंधेर, भूलते रोज मात्रा |

      उत्तर देंहटाएं
    2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
      स्वतन्त्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ!

      उत्तर देंहटाएं

    आपके आने के लिए धन्यवाद
    लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

     
    Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz