व्‍यंग्‍य का शून्‍यकाल होगी लखनऊ के अंतरराष्‍ट्रीय हिन्‍दी ब्‍लॉगर सम्‍मेलन में 27 अगस्‍त 2012 को ब्‍लॉगार्पित

हिन्‍दी ब्‍लॉगरों के
अंतरराष्‍ट्रीय सम्‍मेलन में
व्‍यंग्‍य का शून्‍यकाल
होगी ब्‍लॉगार्पित

जी हां
27 अगस्‍त 12 को
लखनऊ के समारोह में
अर्पित होने का
लिया है निर्णय
पुस्‍तक ने

इसमें व्‍यंग्‍यकार
की कोई भूमिका नहीं है
पुस्‍तक में
भूमिका लिखी है
माननीय प्रेम जनमेजय जी ने।

व्‍यंग्‍य छापे हैं
कागज पर
प्रिन्‍टर ने ।

लेखक कौन है
इसकी खोज
आवश्‍यक है।

8 टिप्‍पणियां:

  1. ब्लागार्पित हो रही है किताब
    हमें खुशी हो रही है बेहिसाब
    लेखक भी पता चल जायेगा
    जब वो किताब लेकर लखनऊ जायेगा !

    उत्तर देंहटाएं
  2. लेखक को हमने धर लिया है
    कसके उसको पकड़ रखा है
    छोड़ेंगे नही तब तक
    किताब नहीं मिलती जब तक ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. कल आप की किताब के लोकार्पण समारोह में शामिल हो कर अच्छा लगा। बहुत बहुत बधाईयां.....ऐसे ही निरंतर बुलंदियां छूते रहें। शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत ही शानदार और सराहनीय प्रस्तुति....
    बधाई

    इंडिया दर्पण
    पर भी पधारेँ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही शानदार और सराहनीय प्रस्तुति....
    बधाई

    इंडिया दर्पण
    पर भी पधारेँ।

    उत्तर देंहटाएं

आपके आने के लिए धन्यवाद
लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

 
Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz