हिन्‍दी ब्‍लॉगिंग और सोशल मीडिया एक दूसरे के पूरक बन चुके हैं : ब्‍लॉगिंग संगोष्‍ठी में सबने एकमत से स्‍वीकारा


हिन्‍दी एवं हिंदी ब्‍लॉगिंग के हित में इस समाचार का प्रकाशन समाचार पत्र/पत्रिकाओं, ब्‍लॉगों, वेबसाइटों इत्‍यादि पर किया जा सकता है।
यह फोटो किसने खींची

नई दिल्‍ली, भारत की राजधानी के दिल कनॉट प्‍लेस के द एम्‍बेसी रेस्‍तरां में एक हिंदी ब्‍लॉगर संगोष्‍ठी लखनऊ से पधारे हिन्‍दी के मशहूर ब्‍लॉगर सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी के सम्‍मान में सामूहिक ब्‍लॉग नुक्‍कड़डॉटकॉम के तत्‍वावधान में शनिवार को आयोजित की गई। इस मौके पर हिन्‍दी ब्‍लॉगिंग के प्रभाव को सबने एकमत से स्‍वीकारा। देश विदेश में हिंदी के प्रचार प्रसार में हिन्‍दी ब्‍लॉगिंग के महत्‍व को सबने स्‍वीकार किया और इसकी उन्‍नति के मार्ग में आने वाली कठिनाईयों पर व्‍यापक रूप से विचार विमर्श किया गया। संगोष्‍ठी में दिल्‍ली, नोएडा, गाजियाबाद के जाने माने हिंदी ब्‍लॉगरों ने शिरकत की। सोशल मीडिया यथा फेसबुक, ट्विटर को हिंदी ब्‍लॉगिंग का पूरक माना गया। एक मजबूत एग्रीगेटर के अभाव को सबने एक स्‍वर से महसूस किया और तय किया गया कि इस संबंध में सार्थक प्रयास किए जाने बहुत जरूरी हैं। फेसबुक आज एक नेटवर्किंग के महत्‍वपूर्ण साधन के तौर पर विकसित हो चुका है। इसका सर्वजनहित में उपयोग करना हम सबकी नैतिक जिम्‍मेदारी है।

खुद ही पहचान लीजिए...?
सामूहिक ब्‍लॉग नुक्‍कड़ के मॉडरेटर एवं चर्चित व्‍यंग्‍यकार  अविनाश वाचस्‍पति ने हिंदी ब्‍लॉगिंग को समाज की बुराईयों से बचाने और प्राइमरी कक्षाओं में इसके पाठ्यक्रम आरंभ करने को वक्‍त की जरूरत के मामले को इस अवसर पर भी दोहराया। जिसका सभी उपस्थिति ब्‍लॉगरों ने सर्वसम्‍मति से समर्थन किया।  एक और हिंदी ब्‍लॉगर संतोष त्रिवेदी ने कहा कि बहुत ही छोटे से नोटिस पर दूर दराज से ब्‍लॉगरों का इस संगोष्‍ठी में शामिल होना साबित करता है कि हिंदी ब्‍लॉगिंग का प्रभाव शिखर की ओर तेजी से बढ़ रहा है। कंटेंट के स्‍तर पर आ रही गिरावट पर चिंता व्‍यक्‍त करते हुए जनसत्‍ता के संपादकीय विभाग में कार्यरत् फजल इमाम मल्लिक ने माना कि ऐसी स्थितियां तो प्रत्‍येक तकनीक के आरंभ में  आती ही हैं। यह एक ऐसा मंच है जिसका पूरी जिम्‍मेदारी के साथ तभी उपयोग किया जा सकता है जबकि इस प्रकार के मेल मिलाप होते रहें। उन्‍होंने सबसे आवाह्न किया कि ब्‍लॉगर अपने अपने क्षेत्रों में इस प्रकार के भरसक प्रयास करें।
भड़ासफॉरमीडिया के मॉडरेटर यशवंत सिंह ने जानकारी दी कि आगरा में एक ब्‍लॉगर अपने तकनीक ब्‍लॉग के जरिए एक से डेढ़ लाख रुपये प्रतिमाह तक कमाई कर रहे हैं। इसके अलावा भी कई जगहों पर ब्‍लॉगिंग से कमाई हो रही है। यह स्थिति निश्‍चय ही सुखद है। प्रत्‍यक्ष न सही, परंतु परोक्ष रूप से हिंदी ब्‍लॉगिंग से हो रही कमाई को अविनाश वाचस्‍पति ने भी स्‍वीकारा।
गिलास भी भरे थे
स्‍वास्‍थ्‍य संबंधी ब्‍लॉगों के मॉडरेटर के. राधाकृष्‍णन, पी 7 से जुड़े हर्षवर्द्धन त्रिपाठी, स्‍वतंत्र पत्रकार विष्‍णु गुप्‍त, अयन प्रकाशन के भूपाल सूद, डॉ. टी. एस. दराल, हिंद युग्‍म के शैलेश भारतवासी, सुलभ सतरंगी, कुमार कार्तिकेयन, अमरेन्द्र नाथ त्रिपाठी, खुशदीप सहगल इत्‍यादि ने हिंदी ब्‍लॉगिंग के स्‍वस्‍थ विकास के लिए कई पहलुओं पर उद्देश्‍यपूर्ण चिंतन किया।इस अवसर पर डॉ.दराल  द्वारा उठाये गए विषय "फेसबुक के ब्लॉगिंग को खा जाने की आशंका" पर विमर्श भी हुआ और इसी पर खुशदीप जी ने एक डायलॉग सुनाया,"मेरे पास फेसबुक है,ट्विटर है,ब्लॉगिंग है,तुम्हारे पास क्या है ? ...काम-धंधा ".यह सुनते ही सब ठठाकर हंस पड़े !
सबने माना कि फिजूल की अश्‍लील एवं धार्मिक उन्‍माद संबंधी पोस्‍टों पर जाने से हर संभव बचा जाए। इस दूषित प्रवृत्ति पर भी चिंता प्रकट की गई कि चार पोस्‍टें लिखकर स्‍वयं को साहित्‍यकार समझने वालों को अपनी आत्‍ममुग्‍धता से निजात पानी चाहिए। यह बुराईयां स्‍वस्‍थ ब्‍लॉगिंग के विकास के लिए हितकर नहीं हैं।

इसे कहते हैं ... क्‍या कहते हैं ?
...
प्रेषक : पवन चंदन, 1/12, रेलवे कालोनी, सेवा नगर, नई दिल्‍ली 110003 फोन 9990005904


20 टिप्‍पणियां:

  1. महत्वपूर्ण है चेहरों में पसरी हुई मुस्कराहट ! कुनेन से चेहरे लिए घूमते रहने से यही ज्यादा बेहतर है !

    सिद्धार्थ जी को शुभकामनायें ! अमरेन्द्र जी , अविनाश जी और संतोष त्रिवेदी और अन्य ब्लागर साथियों के बार बार लगातार , सफेदी की चमकार , दन्त निखार विज्ञापन के साथ साथ डाक्टर दराल साहब को ढूंढ ढूंढ कर थक गया :)

    ऐसी फोटोग्राफी ? ये अच्छी बाsssत नईं है :)

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. अली साब इसके ज़रा पहले वाली पोस्ट पर भी नज़र डालिए वहाँ सदाबहार दराल साब दिख जायेंगे...इसमें भी अभी इंतजाम करता हूँ !

      हटाएं
    2. संतोष जी ,
      दराल साहब को यहां चस्पा किया ये तो ठीक है पर आपने कहा कि इससे ज़रा पहले वाली पोस्ट पर नज़र डालिए तो वही किया ? मगर वहां तो सदाबहार दराल साहब हज़ार हज़ार के नोटों की शक्ल में दिखाई दे रहे हैं :)

      हटाएं
  2. अली भाई, अगर सभी अच्‍छी बातें हम ही करेंगे तो आपका इंतजार कैसे करेंगे।

    उत्तर देंहटाएं
  3. स्‍वयं को साहित्‍यकार समझने वालों को अपनी आत्‍ममुग्‍धता से निजात पानी चाहिए।

    sangoshti kae sadsyon par bhi yae rule laaguu haen naa !!!!!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. रचना जी,आपके रहते साहित्यकार होने का खतरा कौन मोल ले सकता है ?

      हटाएं
    2. Apne sukh se bhi sukhi hona chahiye, saamne walon ke Dukh me kab tak Rachna Prakiyya sukh talaashegi, sahityakaron ka yeh Gun to nahin Santosh bhai. Mol Daam to kahin kharch hona hi nahin chahiye ? Vivadon ki nani maidaan me kood chuki hain.

      हटाएं
  4. आपका फोन नम्बर ट्राई किया
    बारम्बार एक मोहतरमा ने क्राई किया
    'आप जिस नंबर पर बात करना चाहते है अभी संभव नहीं है .. कुछ समय बाद कोशिश करें'
    क्या यह नम्बर आपका नहीं है
    868166586

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. जी हां, यह नंबर मेरा नहीं है। कोई क्राई हो अथवा फ्राई को हमें तो भुने हुए चने खाने में ही स्‍वाद आता है।

      हटाएं
  5. अच्छे संकल्प के साथ समापन। यह सुखद है।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. हम उस सुख में विश्‍वास रखते हैं जो दूसरे को भी सुख दे न कि दूसरे के दुख में सुख की बलात् प्रक्रिया हो।

      हटाएं
  6. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. इस तरह अपने लिंक पोस्‍ट की टिप्‍पणियों में न छोड़ें और प्रचार के अन्‍य सकारात्‍मक उपायों का सहारा लें। जल्‍द ही आपकी टिप्‍पणी को पोस्‍ट से हटा दिया जाएगा।

      हटाएं
  7. अपन का कनेक्सन कटा है, कैफे पर कम वक़्त में नेट की खुन्ची लगा रहा हूँ :)

    मजेदार था मिलना, खासकर कि छिद्रान्वेषण आदि दुर्गुणों से मुक्त रही मीटिंग. दराल जी आदि कई जागरूक ब्लागरों से पहली बार मुलाक़ात हुई और उनके ब्लागीय सरोकार कई दृष्टियों से आश्वस्तिमूलक लगे कि ब्लागरों की नजर में सार्थकता और हिन्दी में बहुतेरे विषयों की अभाव-पूर्ति जरूरी समझी जा रही है.

    संतोष जी ने सही ही स्मरण कराया पान वाले वाकये का, बात यह थी वह पान का बर्फीला पलीता था, पलीते की ही तरह तोपची ने सबके मुंह में लगाया था, आखिर ब्लॉगर भी तो तोप चीज होता है :))

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. ब्‍लॉगर से अधिक तोपची तो ब्‍लॉगराएं होती हैं। मेरा तो अब तक का अनुभव यही है अमरेन्‍द्र भाई। इनसे बचकर रहना चाहिए बाबा और स्‍वामियों को।

      हटाएं
  8. हँसी खुशी बतियाते ब्लॉगर किसे अच्छे नहीं लगते!
    आभार सूचनात्मक रिपोर्ट का

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. पाबला जी, हंसी खुशी बतियाते ब्‍लॉगर ही नहीं, सभी सभी को अच्‍छे लगते हैं सिर्फ कुछेक वीरांगनाओं को छोड़ दिया जाए तो, जिन्‍हें कुछ विशेष ब्‍लॉगर ही पसंद आते हैं जो उनकी तारीफ में कशीदाकारी करें।

      हटाएं
  9. अच्छी राजी ख़ुशी वाली पोस्ट मगर एक भी महिला ब्लॉगर नजर नहीं आई !!
    शांतिपूर्वक ब्लॉग मीट के लिए बहुत बधाई !

    उत्तर देंहटाएं

आपके आने के लिए धन्यवाद
लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

 
Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz