हम खामोश हैं इसलिए हमारी अभिव्‍यक्ति पर प्रतिबंध है : असीम त्रिवेदी

दैनिक लोकसत्‍य में 10 फरवरी 2012 के संपादकीय पेज पर असीम त्रिवेदी के आलेख की स्‍कैनप्रति आपके लाभार्थ प्रस्‍तुत है। प्रतिक्रियाएं देने से न बचें, पढ़कर चुपचाप न सरक जाएं क्‍योंकि यह सच है कि हम खामोश हैं इसलिए हमारी अभिव्‍यक्ति पर प्रतिबंध है। 

5 टिप्‍पणियां:

  1. अब तक 13 पढ़ गए
    पर चुपचाप खिसक गए।

    उत्तर देंहटाएं
  2. hame ab apani aawaz bachane ke liye aawaz uthani hogi.
    save your voice ke campaign mein aap sab saath de.
    Ujjain se hamane Langda Maarch ki shuruwat kar di hain.
    kal meerut mein bhi langda maarch nikla tha.

    उत्तर देंहटाएं
  3. जो छवि खुल रही है उसे बडा कैसे किया जाए अविनाश भाई

    उत्तर देंहटाएं

आपके आने के लिए धन्यवाद
लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

 
Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz