हां एक पत्नि भी मिली है..

Posted on
  • by
  • गिरीश बिल्लोरे मुकुल
  • in
  • प्रिय देशवासियो
    भारत की आकुल व्याकुल जनता कित्ती आकुल-व्याकुल है इसकी चर्चा अब गै़र ज़रूरी सी नज़र आ रही है.जिसे जब अवसर मिला नौचा-लूटा खसोटा समूचे देश को . ईमानदारी की परिभाषा एकाध ही ईमानदारी से देने की योग्यता रखता होगा. कुछ दिन पहले की सच्ची घटना है. एक बीमा अभिकर्ता बेहद ग़रीब परिवार से बना.. शुद्ध ईमानदार था.. सुना है किसी अच्छे ओहदे पर जमा हो गया है.. जानते हैं उसका मूल्य क्या मिला अढ़ाई किलो सोना, एक करोड़ रुपये एक स्विफ़्ट गाड़ी.. हां एक पत्नि भी मिली है.......... जै हो भारत-माता के वीर युवाओं की जो सामाजिक भ्रष्टाचार को बरक़रार रखे हुए हैं... ????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????

    3 टिप्‍पणियां:

    1. ़़़़़
      अरे मिट्टी खरीदते हैं लोग
      अगर सोने के भाव कहीं
      तो इसमें मिट्टी की गलती
      कहाँ से आयी अगर वो मिट्टी
      के सांथ पत्थर भी ले आयी?

      उत्तर देंहटाएं
    2. . ईमानदारी की परिभाषा एकाध ही ईमानदारी से देने की योग्यता रखता
      karara vyangya hae.

      उत्तर देंहटाएं

    आपके आने के लिए धन्यवाद
    लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

     
    Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz