ज्योतिष जाल बुनतीं संगीता पुरी

Posted on
  • by
  • SUMIT PRATAP SINGH
  • in

  • प्रिय मित्रो

    सादर ब्लॉगस्ते!


         दोस्तो सिकंदर के आक्रमण के बाद भारत का यूनान से संपर्क बढ़ा. भारतीयों ने यूनानियों को बहुत कुछ सिखाया, तो उनसे भी बहुत कुछ सीखा. ज्योतिष विद्या यूनानियों ने ही भारतीय को सिखाई. मजे की बात है कि यूनानी ज्योतिषी बिना नहाये ही सबका भाग्य बताते थे इसलिए भारतीय उन्हें म्लेच्छ कहते थे (जाने कैसे यूनानी इतने दिन बिना नहाए रह लेते होंगे, हमारी कलम घिस्सी बहना को तो एक हफ्ते में ही शरीर में खुजली होने लगती है). जबकि हम भारतीय प्राचीन काल से ही बड़े साफ़-सुथरे रहे हैं और भारतीय ज्योतिषी नहा-धोकर पूर्ण-रूप से शुद्ध होकर सबका भविष्य बताते थे और बताते हैं. हालाँकि ज्योतिष विद्या पूर्णरूप से एक वैज्ञानिक विद्या है किन्तु कुछ अधूरे अज्ञानियों ने इसे बदनाम कर रखा है. हालाँकि कुछ लोग इस विद्या के असल रूप को लोगों तक पहुंचाने के लिए निरंतर प्रयासरत हैं.
    आगे पढ़ें...

     
    Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz