दो अक्‍टूबर को बारह बजे राजघाट पर होगा लोकार्पण : बापू वापस आ जाओ


अन्‍नाभाई से मिलने के इच्‍छुक दिल्‍ली और आसपास के क्षेत्रों के हिन्‍दी ब्‍लॉगर कल दो अक्‍टूबर को दोपहर बारह बजे राजघाट पर पुस्‍तक के लोकार्पण के अवसर पर मिल सकते हैं। 

‘बापू वापस आ जाओ’
कानपुर (एसएनबी)। ‘बापू वापस आ जाओ’ यह पर्यावरण प्रेमी कवि सुरेन्द्र शर्मा ‘कफस’ का एक ऐसा और अनूठा काव्य संग्रह है, जिसमें बापू यानी महात्मा गांधी से धरती पर वापस आने की मार्मिक गुहार लगायी गयी है। उद्देश्य यह कि समस्याओं और दर्द में डूबे समाज को बापू राहत दिला सकें। कवि ने कहा कि वह 2 अक्टूबर को दिल्ली जाकर राजघाट पर बापू को अपनी पुस्तक समर्पित करेंगे। महात्मा गांधी प्रतिमा स्थल फूलबाग पर पत्रकारों से बात करते हुए कवि श्री शर्मा ने बताया कि दस काव्यात्मक पत्रों को पुस्तक का रूप दिया गया है। कवि ने इन पत्रों के माध्यम से आजादी के बाद से अब तक के सामाजिक विकार और विसंगतियों को सामने लाकर उन्हें दूर करने की जरूरत पर जोर दिया है। इसके लिये बापू से वापस धरती पर आने की गुहार लगायी है। पुस्तक में कवि ने कहा है ‘कदम-कदम पर रिश्वत है, और दलाली घोटाला, बहुमंजिले होटल है, पंचतारे मधुशाला, नंगे बदन बहुतेरे हैं, उनके तन को ढक जाओ, बापू वापस आ जाओ।’ पेशे से फैशन डिजाइनर और एक्सिस कालेज में शिक्षक श्री शर्मा इससे पहले पर्यावरण संरक्षण की अलख जगाने को अपने स्कूटर मिस्त्री मित्र मो.अली के साथ भारत भ्रमण भी कर चुके हैं। फूलबाग में पत्रकारों से वार्ता करते

5 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति| धन्यवाद्|

    उत्तर देंहटाएं
  2. कवि सुरेन्‍द्र शर्मा दिल्‍ली में हैं और ऊपर उनका चित्र अन्‍नाभाई के साथ ही है। आप सबको यह जानकर अति प्रसन्‍नता होगी कि अन्‍नाभाई के ये मित्र 1979 के बाद किसी तरह से संपर्क में नहीं थे कि एकाएक पिछले दिनों उन्‍होंने फेसबुक पर अन्‍नाभाई ऊर्फ अविनाश वाचस्‍पति को तलाश लिया और उसके बाद वे आज पहली बार मिले हैं और राजघाट पर आप सबसे मिलने पहुंच रहे हैं। दिन में दोपहर बारह बजे। इस स्‍वर्णिम बेला का अवश्‍य लाभ उठायें।

    उत्तर देंहटाएं
  3. bhai smy to aap ne sahi hi chuna hai bdhai
    ek ati aavshyk kary ke karn milna smbhv nhi ho pa rha hai kshma nivedn ke sath shubhkamnayen swikaren

    उत्तर देंहटाएं

आपके आने के लिए धन्यवाद
लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

 
Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz