जो नुक्‍कड़ समूह से लेखन की सदस्‍यता छोड़ना चाहते हैं, स्‍वयं बतला दें

Posted on
  • by
  • अविनाश वाचस्पति
  • in
  • Labels:
  • क्‍या मालूम किसकी मर्जी कितनी है
    कौन चाहता है जुड़े रहना और लिखना
    कोई चाहता है जमे रहें बिना लिखें
    सूरतें दोनों ही अच्‍छी हैं

    पर न चाहते हैं लिखना
    न चाहते हैं बने रहना
    वे बेबाकी से कह जाएं

    3 टिप्‍पणियां:

    1. ओये होये क्या हो गया?
      आजकल पारा गरम हो रहा है
      मौसम तो नरम हो रहा है
      क्या बारिश का ना असर हो रहा है

      उत्तर देंहटाएं
    2. 100 पर फ़िर मामला अटक गया लगता है, गुगल से बोल कर लेखक संख्या बढवाईए :)

      उत्तर देंहटाएं
    3. ललित भाई गूगल कोई गल नहीं करता है।

      उत्तर देंहटाएं

    आपके आने के लिए धन्यवाद
    लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

     
    Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz