ऐसे हुसैन पर कौन फिदा नहीं होगा

Posted on
  • by
  • पुष्कर पुष्प
  • in
  • ऐसे हुसैन पर कौन फिदा नहीं होगा: "राज बब्बर के घर आप जाएंगे, तो मुंबई के जुहू में गुलमोहर रोड़ स्थित उनके बंगले ‘नेपथ्य’ के ड्रॉइंग रूम की दीवार पर एक बड़ी सी पेंटिंग देखने को मिलेगी। बरसों पहले की बात है, ‘नेपथ्य’ के मुहुर्त पर नादिरा बब्बर ने बहुत सारे लोगों को बुलाया था। लोग आए भी। कार्यक्रम पूरा हुआ। घर के सारे लोग सो गए। आधी रात को अचानक दरवाजे की घंटी बजी, और खोला, तो सामने जो आदमी खड़ा था, उसका नाम मकबूल फिदा हुसैन था। हाथ में एक बैग भी था। बोले – ‘दिन भर नहीं आ पाया, इसीलिए अब वक्त मिला तो आ गया’। अंदर आकर बातचीत करने के साथ हुसैन की नजरें कुछ तलाश रही थी। एक दीवार खाली दिखी तो, उस पर पेंटिंग बनानी शुरू कर दी। फिर बोले –

    - Sent using Google Toolbar"

    3 टिप्‍पणियां:

    1. अपने दोस्तों के छोटे-मोटे काम कौन नहीं करता, इसमें महान होने की क्या बात है।

      उत्तर देंहटाएं

    आपके आने के लिए धन्यवाद
    लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

     
    Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz