हिन्‍दी ब्‍लॉगिंग : यादें 30 अप्रैल 2011 की, जिन्‍हें भूल नहीं पाएंगे।

हिन्‍दी ब्‍लॉगिंग : यादें 30 अप्रैल 2011 की, जिन्‍हें भूल नहीं पाएंगे।








































































 













































 
    












 
































































 
--
रविंद्र पुंज, ग्राफिक्‍स डिजाइनर, यमुनानगर (हरियाणा)
http://www.yamunanagarhulchul.blogspot.com/
http://www.rkpunj.blogspot.com/

9 टिप्‍पणियां:

  1. यादें याद आती हैं, यादें नहीं जाती हैं, इसलिए फोटोस यहां लगाई हैं।
    यादें याद आती रहें, एक दूसरे चिंता सताती रहे, इसलिए फोटोस यहां लगाई हैं।
    आयोजक ऐसा काम करते रहें, हम सब ऐसे ही मिलते रहें, इसलिए फोटोस यहां लगाई हैं।
    भगवान जी सबको सनमति दें, आयोजकों का हौंसला बुलंद करे, इसलिए फोटोस यहां लगाई हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  2. भूलने वाली चीज ही नहीं है .....इतना बढ़िया आयोजन

    आप द्वारा पोस्ट चित्रों ने , वहाँ न होने का कसक काफी कुछ दूर कर दिया |

    कार्यक्रम से जुड़े सभी लोग बहुत-बहुत धन्यवाद के पात्र हैं |

    उत्तर देंहटाएं
  3. एक बार फिर यादें जीवन्त हो गयीं।

    उत्तर देंहटाएं
  4. yaade to yaade hai, in tasviro ko dekh kar hamesha taazi hoti rahengi......

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही बढ़िया...चित्रमयी रिपोर्ट...मज़ा आ गया देखा कर एवं सहेज कर :-)

    उत्तर देंहटाएं

आपके आने के लिए धन्यवाद
लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

 
Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz