हिन्‍दी ब्‍लॉगिंग संबंधी पुस्‍तकों की अग्रिम बुकिंग से कमाई : 15 अप्रैल 2011 के बाद पुस्‍तक की बुकिंग तो की जाएगी परंतु ब्‍लॉगर का विवरण पुस्‍तक में प्रकाशित होने की गारंटी नहीं है

विशेष निर्णय के तहत आज 14 सितम्‍बर 2011 हिंदी दिवस से अगले वर्ष 2012 के हिंदी तक दिवस तक, यदि पुस्‍तकें उपलब्‍ध रहेंगी, तो दोनों पुस्‍तकों के विशेष मूल्‍य रुपये 450/- केवल में मिलती रहेंगी। आप तो बस दिए गए खाते में राशि जमा करवा दीजिए और उसकी सूचना nukkadh@gmail.com पर भेज दीजिए। पुस्‍तकें आपके पास दौड़ी चली आयेंगी।


(१) पुस्तक का नाम : हिंदी ब्लॉगिंग : अभिव्यक्ति की नयी क्रान्ति
यह पुस्तक अविनाश वाचस्पति और रवीन्द्र प्रभात के द्वारा संपादित है
 मूल्य : 495/- ( डाक खर्च अलग से )
प्रकाशक : हिंदी साहित्य निकेतन, 16, साहित्‍य विहार, बिजनौर (ऊ.प्र.) 246701

(२) पुस्तक का नाम : हिंदी ब्लॉगिंग का इतिहास
लेखक का नाम : रवीन्द्र प्रभात
मूल्य : 250 /-( डाक खर्च अलग से)
प्रकाशक : हिंदी साहित्य निकेतन, 16, साहित्‍य विहार, बिजनौर (ऊ.प्र.) 246701
महाविशेष सूचना :
आप सबके विशेष अनुरोध पर निर्णय लेते हुए यह सूचित किया जाता है कि क्‍योंकि अभी तक बहुत से हिन्‍दी ब्‍लॉगर साथियों तक सूचना या तो देर से पहुंची है अथवा नहीं पहुंची है इसलिए कल के अवकाश को ध्‍यान में रखकर तिथि को 15 अप्रैल 2011 शुक्रवार सांय 6 बजे तक बढ़ाया गया है लेकिन इसके बाद किसी भी स्थिति में ब्‍लॉगरों का विवरण पुस्‍तक में शामिल नहीं किया जा सकेगा। पुस्‍तक 16 अप्रैल 2011 से प्रेस में पहुंचकर प्रिंट होनी शुरू हो जाएगी। इसलिए 15 अप्रैल 2011 को सांय 6 बजे बाद प्राप्‍त किसी विवरण को पुस्‍तक में, किसी भी स्थिति-परिस्थिति में सम्मिलित नहीं किया जा सकेगा। हां, पुस्‍तकों की बुकिंग की सुविधा इन्‍हीं नियमों के अंतर्गत अवश्‍य 25 अप्रैल 2011 तक की जा सकेगी। 25 अप्रैल 2011 के बाद 26 अप्रैल 2011 से दोनों पुस्‍तकों की अग्रिम बुकिंग 495/- रुपये में की जा सकेगी।
विशेष सूचना : 12 अप्रैल 2011 तक बुकिंग करवाने वाले ब्‍लॉगरों के नाम, ब्‍लॉग पते और ई मेल पते पुस्‍तक में बिना किसी अतिरिक्‍त भुगतान के शामिल/ प्रकाशित किए जायेंगे। 


रुपये 450/- केवल भेजने के लिए आप अपनी सुविधानुसार निम्‍नलिखित तीन विकल्‍पों में किसी एक का चयन कर सकते हैं
1. आप मनीआर्डर से सीधे हिंदी साहित्य निकेतन, 16, साहित्‍य विहार, बिजनौर (ऊ.प्र.) 246701 के पते पर राशि भेज सकते हैं परंतु मनीआर्डर के पीछे संदेश में अपना पूरा पता, फोन नंबर ई मेल आई डी के साथ अवश्‍य  लिखें।
2. तकनीक का लाभ उठाते हुए आप बैंक ऑफ बड़ौदा, बिजनौर के नाम हिन्‍दी साहित्‍य निकेतन के खाता संख्‍या 27090100001455 में नकद जमा करवा सकते हैं। इस सुविधा का लाभ उठाने के बाद जमा पर्ची का स्‍कैन चित्र मेल पर अपनी पूरी जानकारी के साथ अवश्‍य भिजवायें।
3. आप यह राशि हिन्‍दी साहित्‍य निकेतन के नाम ड्राफ्ट के द्वारा भी डाक अथवा कूरियर के जरिए भेज सकते हैं। चैक सिर्फ सी बी एस शाखाओं के ही स्‍वीकार्य होंगे।
आप जिस भी विकल्‍प का चयन करें, उसका उपयोग करने के बाद इन ई मेल पर सूचना भी अवश्‍य भेजने का कष्‍ट कीजिएगा
giriraj3100@gmail.com, ravindra.prabhat@gmail.com & nukkadh@gmail.com पर जरूर भेजिएगा।


ज्ञातव्‍य हो कि उपरोक्त दोनों पुस्तकों का सम्मिलित मूल्य है रुपये. 745/- किन्तु  लोकार्पण से पूर्व यानी दिनांक २५.०४.२०११ तक संयुक्त रूप से दोनों पुस्तकों की खरीद पर डाक खर्च सहित रू. 450/- ही देने होंगे !

ऑर्डर सीधे प्रकाशक : हिंदी साहित्य निकेतन, 16, साहित्‍य विहार, बिजनौर (ऊ.प्र.) 246701 के नाम भेजना है !

किसी प्रकार की शंका होने पर ई मेल भेजने अथवा फोन से बात करने पर हिचकिचाएं मत।

विशेष सूचना : 12 अप्रैल 2011 तक बुकिंग करवाने वाले ब्‍लॉगरों के नाम, ब्‍लॉग पते और ई मेल पते पुस्‍तक में बिना किसी अतिरिक्‍त भुगतान के शामिल/ प्रकाशित किए जायेंगे। 

इस सूचना को ब्‍लॉगहित में सबके साथ साझा कीजिए।

157 टिप्‍पणियां:

  1. उत्तर
    1. हाय सब,

      आप एक व्यवसाय है कि एक कम समय में आप अपनी वित्तीय स्थिति को बेहतर करने के लिए बदल सकते हैं की कल्पना कर सकते हैं?
      आप जो व्यवसाय में एक प्रतिशत है, जो है नहीं देने के लिए और हमेशा की तरह, किसी भी निवेश के बिना होगा?
      व्यापार कि सरल है और कि आप एक जीवन भर प्रदान कर सकते हैं?
      जो व्यापार में आप कुछ खोना नहीं है, लेकिन आप केवल एक ही प्राप्त कर सकते हैं?
      आप गूगल के सदस्य अच्छी तरह से भुगतान करना चाहेंगे?
      बात यह है ... WAZZUB


      WAZZUB - नई तकनीक का पेटेंट कराया पंजीकरण करने के लिए दुनिया में सबसे का दौरा किया वेबसाइटों बन पृष्ठ.
      गूगल भी रिकॉर्ड FACEBOOK तोड़ दिया और गिनीज बुक ऑफ रिकॉर्ड्स में दर्ज किया गया. WAZZUB 2012 में, अरबों लोगों की नहीं लाखों के जीवन में परिवर्तन ...
      इस एमएलएम (बहु स्तरीय विपणन) नहीं है - WAZZUB बहुत खास है!
      कोई अन्य कंपनी के उन लोगों को जो मुक्त हो जाएगा के लिए अपने लाभ का 50% की पेशकश की है और इस नई परियोजना के साथ शामिल किया जाएगा. यह सब पर बाजार में ही कंपनी है.

      करोड़ों परियोजना WAZZUB. इसकी शुरुआत 2007 से अधिक 2000000 $ के एक निवेश के साथ वापस की तारीख.

      यह एक नया इंटरनेट घटना है, और आप एक दुनिया में पहली बार इसके बारे में पता कर रहे हैं. अब यह बहुत महत्वपूर्ण है समझ तुम क्या आपके हाथों में है.

      समय महत्वपूर्ण है.

      आप एक जीवन भर के माध्यम से वित्तीय स्वतंत्रता प्राप्त कर सकते हैं - मुक्त - और एक बड़े पैमाने पर निष्क्रिय आय हर महीने.

      आप गहरी 5 पीढ़ियों में उनकी "असीमित" चौड़ाई में प्रति व्यक्ति $ 1 अर्जित कर सकते हैं.

      अगर यह ज्यादा नहीं लगता है देखो, क्या होता है:

      यदि आप 5 दोस्तों को आमंत्रित करते हैं, और उन पांच दोस्तों को एक ही बात करेंगे:

      पहले 5 पीढ़ी एक्स 1 $ $ $ 5 =
      दूसरी पीढ़ी के 25 एक्स 1 $ = $ 25
      x 125 $ 1 = $ 125 की तीसरी पीढ़ी
      चौथी पीढ़ी के 625 एक्स 1 $ = $ 625
      5 3125 पीढ़ी x 1 $ 3 $ 125 =
      ____________________________________
      अपने निष्क्रिय आय 3905 $ कुल होगा. यह निष्क्रिय आय आप प्रत्येक महीने हो और तुम क्या तुम हर दिन कर रहे हैं की तुलना में और कुछ नहीं करते.

      क्या होगा अगर हर कोई परियोजना केवल 10 लोगों को आमंत्रित किया? इस राशि के लिए 111 $ 110 प्रति माह करने के लिए गुलाब होगा - एक निष्क्रिय जीवन!

      और अधिक लोगों को आमंत्रित करने के लिए, अधिक पैसे कमाने. 20 या 30 की कोशिश करो और देखो क्या होता है ... आप विश्वास नहीं करेंगे.

      यह एक तथ्य यह है कि ज्यादातर लोगों में शामिल है क्योंकि यह एक अद्वितीय कमाने का अवसर है,
      यह शक्ति है और यह मुफ़्त है और हर कोई मुक्त सामान प्यार करता है :)

      पंजीकरण लिंक: signup.wazzub.info / LrRef = 7ad20

      जानकारी: www.youtube.com/watch?v=5yv4BvQv1Kk

      हटाएं
  2. 12 अप्रैल 2011 तक बुकिंग करवाने वाले ब्‍लॉगरों की सूचि में आप मुझे भी शामिल कर लें ... बैंक की करवाई पूरी कर आप से संपर्क करता हूँ !

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. हाय सब,

      आप एक व्यवसाय है कि एक कम समय में आप अपनी वित्तीय स्थिति को बेहतर करने के लिए बदल सकते हैं की कल्पना कर सकते हैं?
      आप जो व्यवसाय में एक प्रतिशत है, जो है नहीं देने के लिए और हमेशा की तरह, किसी भी निवेश के बिना होगा?
      व्यापार कि सरल है और कि आप एक जीवन भर प्रदान कर सकते हैं?
      जो व्यापार में आप कुछ खोना नहीं है, लेकिन आप केवल एक ही प्राप्त कर सकते हैं?
      आप गूगल के सदस्य अच्छी तरह से भुगतान करना चाहेंगे?
      बात यह है ... WAZZUB


      WAZZUB - नई तकनीक का पेटेंट कराया पंजीकरण करने के लिए दुनिया में सबसे का दौरा किया वेबसाइटों बन पृष्ठ.
      गूगल भी रिकॉर्ड FACEBOOK तोड़ दिया और गिनीज बुक ऑफ रिकॉर्ड्स में दर्ज किया गया. WAZZUB 2012 में, अरबों लोगों की नहीं लाखों के जीवन में परिवर्तन ...
      इस एमएलएम (बहु स्तरीय विपणन) नहीं है - WAZZUB बहुत खास है!
      कोई अन्य कंपनी के उन लोगों को जो मुक्त हो जाएगा के लिए अपने लाभ का 50% की पेशकश की है और इस नई परियोजना के साथ शामिल किया जाएगा. यह सब पर बाजार में ही कंपनी है.

      करोड़ों परियोजना WAZZUB. इसकी शुरुआत 2007 से अधिक 2000000 $ के एक निवेश के साथ वापस की तारीख.

      यह एक नया इंटरनेट घटना है, और आप एक दुनिया में पहली बार इसके बारे में पता कर रहे हैं. अब यह बहुत महत्वपूर्ण है समझ तुम क्या आपके हाथों में है.

      समय महत्वपूर्ण है.

      आप एक जीवन भर के माध्यम से वित्तीय स्वतंत्रता प्राप्त कर सकते हैं - मुक्त - और एक बड़े पैमाने पर निष्क्रिय आय हर महीने.

      आप गहरी 5 पीढ़ियों में उनकी "असीमित" चौड़ाई में प्रति व्यक्ति $ 1 अर्जित कर सकते हैं.

      अगर यह ज्यादा नहीं लगता है देखो, क्या होता है:

      यदि आप 5 दोस्तों को आमंत्रित करते हैं, और उन पांच दोस्तों को एक ही बात करेंगे:

      पहले 5 पीढ़ी एक्स 1 $ $ $ 5 =
      दूसरी पीढ़ी के 25 एक्स 1 $ = $ 25
      x 125 $ 1 = $ 125 की तीसरी पीढ़ी
      चौथी पीढ़ी के 625 एक्स 1 $ = $ 625
      5 3125 पीढ़ी x 1 $ 3 $ 125 =
      ____________________________________
      अपने निष्क्रिय आय 3905 $ कुल होगा. यह निष्क्रिय आय आप प्रत्येक महीने हो और तुम क्या तुम हर दिन कर रहे हैं की तुलना में और कुछ नहीं करते.

      क्या होगा अगर हर कोई परियोजना केवल 10 लोगों को आमंत्रित किया? इस राशि के लिए 111 $ 110 प्रति माह करने के लिए गुलाब होगा - एक निष्क्रिय जीवन!

      और अधिक लोगों को आमंत्रित करने के लिए, अधिक पैसे कमाने. 20 या 30 की कोशिश करो और देखो क्या होता है ... आप विश्वास नहीं करेंगे.

      यह एक तथ्य यह है कि ज्यादातर लोगों में शामिल है क्योंकि यह एक अद्वितीय कमाने का अवसर है,
      यह शक्ति है और यह मुफ़्त है और हर कोई मुक्त सामान प्यार करता है :)

      पंजीकरण लिंक: signup.wazzub.info / LrRef = 7ad20

      जानकारी: www.youtube.com/watch?v=5yv4BvQv1Kk

      हटाएं
  3. रविन्द्र प्रभात जी को पुस्तको के लिए बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  4. कवर पेज ही इतना अच्‍छा है, तो अंदर तो मजा आ जाएगा।
    बधाई हो।

    उत्तर देंहटाएं
  5. 12 अप्रैल तक!? और सूचना 11 अप्रैल की दोपहर को?
    ये तो राजा का पहले आयो पहले पायो अभियान जैसा 45 मिनटिया 2G अभियान लगता है!!

    टिपण्णी बक्से के ऊपर ही मुझसे कहा गया कि
    (लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद)

    उत्तर देंहटाएं
  6. धन्‍यवाद शिवम् जी। अपने सभी साथियों को भी इस जानकारी से अवश्‍य अवगत कराइयेगा।

    रविन्‍द्र पुंज जी, जैसा कि आपने कहा था, आप भी अपनी और अपने यमुनानगर के हिन्‍दी ब्‍लॉगर साथियों की पुस्‍तक की बुकिंग संबंधी प्रक्रिया पूरी करवा कर जानकारी ई मेल पर 12 अप्रैल से पूर्व भिजवाइयेगा।

    अन्‍य सभी हिन्‍दी ब्‍लॉगर साथी इस यज्ञ में अपनी आहुति बुकिंग के माध्‍यम से खुद तो डालें ही, अपने अन्‍य साथियों और मित्रों को भी अवश्‍य प्रेरित करें।

    उत्तर देंहटाएं
  7. मैं जल्द ही बैंक ऑफ़ बड़ोदा में पैसा जमा कराकर आपसे संपर्क करता हूँ ....

    उत्तर देंहटाएं
  8. bada achha laga jaan kar...........

    meri prati bhi ho sake toh book kar lijiye parantu main abhi na toh bank jane ki sthiti me hoon , na hi money order karne ki, kyonki poora jism bukhaar me tap raha hai

    jaise hi swasth hounga, rashi bhej dunga

    -albela khatri
    1-B, gaurang apt.,
    nanavat, surat-395003

    094083 29393, 092287 56902
    albelakhatri@hasyahungama.com
    www.albelakhatri.com
    www.hasyahungama.com

    उत्तर देंहटाएं
  9. अलवेला जी,
    आपकी प्रति मैंने सुरक्षित करवा दी है , आप जैसे ही स्वस्थ हो जाएँ प्रकाशक को सीधे धनराशी भेज दें !

    उत्तर देंहटाएं
  10. रविन्द्र जी, पुस्तक प्रकाशन के लिए बधाई. पर सूचना जरा जल्दी देना चाहिए था. फ़िलहाल 12 अप्रैल 2011 तक बुकिंग करवाने वाले ब्‍लॉगरों की सूचि में आप मुझे भी शामिल कर लें ... बैंक की करवाई पूरी कर आप से संपर्क करता हूँ !

    उत्तर देंहटाएं
  11. चण्‍डीदत्‍त शुक्‍ल जी की दोनों पुस्‍तकों की नकद राशि उन्‍होंने मेरे पास भिजवा दी है। उन्‍हें सूची में शामिल कर लिया गया है। आभार।

    शिवम् मिश्रा जी को भी सूची में शामिल कर लिया गया है। वे पुष्टि कर चुके हैं। आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  12. फोन पर प्राप्‍त सूचना के उत्‍तर में

    विदेश्‍ा स्थित हिंदी ब्‍लॉगर साथी अपने किसी भारतीय मित्र के द्वारा बुकिंग करवा सकते हैं। प्रति उनके भारतीय मित्र के पते पर भिजवा दी जाएगी और उनका नाम, ब्‍लॉग पता और ई मेल सूची में शामिल कर लिया जाएगा।

    उत्तर देंहटाएं
  13. Pl. book my copy. After sending money inform you type of transfer the money.

    Thanks.

    उत्तर देंहटाएं
  14. रेखा श्रीवास्‍तव जी आपका नाम दोनों पुस्‍तकों की बुकिंग सूची में शामिल कर लिया गया है। आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  15. Please send me also the books ...
    Digamber Naswa
    P.O.Box - 17774, Dubai, UAE
    Ph: +971506364854

    I will send the check/DD ... please inform me through my mail ID dnaswa@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं
  16. पुस्तकालयों व समाचार पत्र—पत्रिकाओं के संपादकों की जय हो जिन्हें इन पुस्तकों की प्रतियां ज़रूर मुफ़्त मिलेंगी :)

    उत्तर देंहटाएं
  17. काजल जी, इस पुस्‍तक को न तो संपादक ही और न ही पुस्‍तकालयों को पुस्‍तक की प्रतियां नि:शुल्‍क भेजी जाएंगी। नि:शुल्‍क पुस्‍तकों की सूची में पहला नाम संपादक और लेखकों का होता है, जब उन्‍हें ही नि:शुल्‍क नहीं दी जा रही हैं तो बाकियों के लिए सोचना तो बहुत दूर की कौड़ी है। आप विश्‍वास रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  18. अविनाश वाचस्पति जी।
    आप मेरा नाम और मेल आई डी पुस्तक में जुड़वा दें।
    30 अप्रैल को दिल्ली आने पर मैं आपको भुगतान कर दूँगा।

    उत्तर देंहटाएं
  19. kyon avinaashji !

    kya irada hai ?

    100-200 extra copy book karaalen, agar black me bikne ka chance ho ?

    उत्तर देंहटाएं
  20. अविनाश जि मेरी पुस्तक के लिये मेरा नाम लिख लें मै 450 रुपये मनिआर्डर दुआरा भेज दूँगी। कल अगर रामनवमी की छुट्टी न हुयी तो कल ही भेज दूँगी नही तो परसों. आप मेरी प्रति सु़्रक्षित कर लें। धन्यवाद्\

    उत्तर देंहटाएं
  21. वाह क्या कहने !
    इसी को कहते हैं फेयर बिजिनेस ..
    मेरा ४५० रुपये का चैक कट गया है -
    भारतीय स्टेट बैंक -
    चैक नंबर -६७००० दिनांक ११-४-११

    उत्तर देंहटाएं
  22. निर्मला जी और अरविन्द जी आपका आभार , मुझे पहले यह भान नहीं था कि कल राम नवमी का अवकाश है इसलिए अब १२ के स्थान पर १३ अप्रैल तक ऑर्डर बुक करने वालों को यह सुविधा सुनिश्चित होगी !

    उत्तर देंहटाएं
  23. अलबेला जी, जहां तक न पहुंचे प्रकाशक, संपादक वहां पहुंचें अलबेला जी।
    हुजूर आप चाहे दो सौ प्रतियां बुक करवायें अथवा तीन सौ। एक तो राशि तुरंत भिजवायें मतलब 13 अप्रैल 2011 तक। दूसरा इतने ही हिन्‍दी ब्‍लॉगों, ब्‍लॉगरों के नाम, यूआरएल और ई मेल पते भी भिजवायें ताकि उन्‍हें पुस्‍तक में सम्मिलित किया जा सके। वैसे प्रतियां बिना ब्‍लॉग/ब्‍लॉगरों का जिक्र किए बिना भी बुक की जा रही हैं परंतु राशिसिंह के बिना तो महंगी ही मिलेंगी। आप जल्‍दी से ही बुक करवा लें। जब तक अन्‍ना हजारे के प्रयासों से भ्रष्‍टाचार भारत से दूर होगा तब तक तो आपकी प्रतियां भी ब्‍लैक में बिक चुकी होंगी और उनसे प्राप्‍त धन स्विस बैंक में जमा हो चुका होगा। सादर/सस्‍नेह

    उत्तर देंहटाएं
  24. अविनाश भाई ,
    अपने स्विस बैंक खाते का नंबर बताइये किताब खरीदनी है ! :-)

    उत्तर देंहटाएं
  25. अविनाश भाई मैंने अभी-अभी सूचना देखी है और अब न तो बेंक की सुविधा है और न ही डाकघर की कल भी सरकारी अवकाश है इसलिए मेरा मनीआर्डर १३ तारीख को ही हो पायेगा | मेरी प्रति सुरक्षित कर लें और नाम पता और ईमेल भी जोड़ ले |

    उत्तर देंहटाएं
  26. बीना जी आप निश्चिंत रहें। आपके कहे अनुसार हो जायेगा।

    सतीश जी, स्विस बैंक वाले कह रहे हैं‍ कि हमारे यहां खाता खोलने के लिए सतीश सक्‍सेना जी का ही अनुमोदन चलेगा क्‍योंकि जिनका पच्‍चीस वर्ष पुराना खाता होता है, उन्‍हीं के अनुमोदन के पश्‍चात् यहां पर नये नये नौसिखियों और ब्‍लॉगरों का खाता खोला जाता है। आप अनुमोदन और प्रारंभिक राशि जमा करवाने के लिए तैयार रहिएगा। वैसे आपको फोन किया है और आपने फोन अटैंड नहीं किया है।

    उत्तर देंहटाएं
  27. हम हिंदुस्तानी भी अपना नाम किताब में देखने के लिए क्या क्या नहीं करते !

    उत्तर देंहटाएं
  28. हमारी प्रति भी हमें भेजियेगा, हमारा नाम भी शामिल कर लीजिये। कृप्या बैंक ऑफ़ बड़ौदा का IFSC Code बतायें तो हमे ऑनलाईन ट्रांसफ़र कर सकेंगे।

    उत्तर देंहटाएं
  29. सच्‍ची कहा है, स्‍पेन के लोग तो इस पर रिसर्च ही कर देंगे।

    उत्तर देंहटाएं
  30. हम तो जब कवर फ़ायनल हुआ था तब्बे से सूची में थे इसलिए हमारा नाम भी अविलंब शामिल किया जाए ..भुगतान हम कैश करेंगे जी अविनाश भाई सूची अपडेट करिए ..पांच सौ वाले गांधी जी का नोट प्रेस करके धर लिए हैं अभिए ..भेजेंगे नहीं कहीं भी आपही को चाहे रविंद्र भाई को दे देंगे ..आप आगे सरका दीजीएगा ..

    उत्तर देंहटाएं
  31. बिकवाने पर "कमीशन" का प्रावधान भी है क्या? :) :) :)

    उत्तर देंहटाएं
  32. जी सुरेश भाई, आप एमआरपी पर बिकवाइये और रुपये 250/- कमीशन पाइये। जय भारत।

    उत्तर देंहटाएं
  33. विवेक जी, तकनीक पर पूरी निर्भरता से बचने के लिए ऑनलाईन की सुविधा इस समय छोड़ दी गई है इसलिए आप मनीआर्डर या सीबीएस चैक अथवा बैंक खाते में नकद जमा करवा सकते हैं। अपने संपर्क के और मुंबई के साथियों को भी इसकी सूचना पोस्‍ट अथवा अन्‍य संचार माध्‍यमों से भी अवश्‍य दे दीजिएगा।

    उत्तर देंहटाएं
  34. शुक्रिया मेरी प्रति बुक करने के लिए...

    उत्तर देंहटाएं
  35. इस संबंध में एक सूचना पॉडकास्‍ट में आप स्‍वयं अपनी ओर से इस पोस्‍ट के अनुसार रिकार्ड करके प्रसारित कर दीजिएगा गिरीश भाई, फिर तो हिन्‍दी ब्‍लॉगिंग की जै नवरात्र में हो जाएगी।
    जय माता की।
    सभी हिन्‍दी ब्‍लॉगरों को नवरात्र की शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  36. कल जमा करवाते हैं पैसे, हमारा नाम तो जोड़ दीजिये और टिप्पणी में कन्फ़र्म भी कर दीजिये

    उत्तर देंहटाएं
  37. विवेक जी, कन्‍फर्म नहीं कर सकते। हम हिन्‍दी ब्‍लॉगर हैं पुष्टि करेंगे।

    उत्तर देंहटाएं
  38. Naam Judwana maksad nahe. Maksad toa hai aap ke rachnaoan ka anand laynay ka. Phone per samperk karta hoon.

    उत्तर देंहटाएं
  39. इस समय मैं रतलाम से बाहर हूँ और कोई पॉंच दिनों बाद घर पहुँचूँगा। फिर, कल, 12 अप्रेल को बैंको मे रामनवमी की छुट्टी होगी।

    यदि विश्‍वास कर सकें तो मेरा नाम भी शामिल कर लें। रतलाम पहुँच कर 450 रूपये, बैंक ऑफ बडौदा में आपके खाते में जमा कर दूँगा।

    आगे आपकी मर्जी।

    उत्तर देंहटाएं
  40. जो कहें विष्‍णु और न मानें अविनाश
    नहीं हुआ है बैरागी भाई भरोसे का सत्‍यानास
    आपका नाम शामिलों में कर लिया है शामिल
    क्‍या पांच और क्‍या पचास
    जब चाहें भेजें पूरा है विश्‍वास
    मैं हूं मुन्‍नाभाई अविनाश।

    डॉ. सुभाष राय जी, संपादक जनसंदेश टाइम्‍स से बात हुई है, उनका नाम भी शामिल कर लिया गया है।

    उत्तर देंहटाएं
  41. नवीन भाई आपके फोन की काल का इंतजार कर रहा हूं।

    उत्तर देंहटाएं
  42. आपको बहुत बहुत बधाई अविनाश जी और रविन्द्र जी ,ब्लोगिंग पर पुस्तक के लिए बहुत बधाई .मैं कल ही अपने लिए इस पुस्तक की प्रति सुरक्षित करवाती हूँ :-)

    उत्तर देंहटाएं
  43. अविनाश जी अच्छा हो यदि आप बैंक एकाउण्ट के साथ BoB की ब्रांच का e-पेमेण्ट हेतु IME अथवा जो भी नं होता है वह भी सूचित करें। अवकाश दिवस की समस्या से मुक्ति ।
    वस्तुत: मेरे 450/- का अग्रिम वचन अभी ले लें दोनो पुस्त्कों की प्रति के लिये मैं भी उत्सुक हूं

    उत्तर देंहटाएं
  44. आप टिप्‍पणी में दर्ज कर दीजिए बुकिंग हो गई समझिएगा। आभार राधिका और श्रीकांत जी

    उत्तर देंहटाएं
  45. ye naainsaafi hai vachaspati sir.... aap mujhe aaj bata rahe hai... aaj ramnavmi ki chhutti hai.... bank saare band hai... post office bhi.... :(

    उत्तर देंहटाएं
  46. हमारी भी प्रति बुक कर लीजिये।

    उत्तर देंहटाएं
  47. वंदना जी आपकी प्रति बुक नहीं हो सकती। हां, आपके लिए जरूर बुक कर ली है।

    उत्तर देंहटाएं
  48. सर्वप्रथम आपको और प्रभात जी को इन पुस्तकों के लिए बधाई.
    हमारी तरफ से दोनों पुस्तकों के तीन सेट की खरीद कन्फर्म की जाय. आज ही प्रभात जी और डा. अग्रवाल जी से भी बात हुई है, आपका नंबर रहता तो आप से भी बात होती. यह तीनों सेट क्रमश: कृष्ण कुमार यादव, आकांक्षा यादव और अक्षिता (पाखी) के नाम दर्ज किये जाएँ. आज खाते में 1350 रूपये भी ट्रांसफर हो जायेंगें.

    उत्तर देंहटाएं
  49. अविनाश जी / रवीन्द्र जी ,

    * दोनों किताबों की एक - एक प्रति मेरे लिए सुरक्षित रखें। बुकिंग लिस्ट में शामिल कर लें मुझे।

    * दोनी ही पुस्तकों का आवरण बहुत सुंदर है। निश्चित रूप से ये दोनो ही किताबें हिन्दी ब्लॉगिंग की बनती हुई दुनिया के मिजाज को समझने - समझाने की दिशा में कारगर होंगी , ऐसी उम्मीद है।

    उत्तर देंहटाएं
  50. क्या इन किताबों की बुकिंग / बिक्री www.flipkart.com के मार्फत भी संभव है ? संभव हो सकती है?

    उत्तर देंहटाएं
  51. अविनाश जी,
    ब्लागिंग पर प्रकाशित होने वाली इन पुस्तकों की चर्चा तो आपने ’हिन्द-युग्म’के पिछले कार्यक्रम में ही कर दी थी.पुस्तकें अब शीध्र ही प्रकाशित होकर भी आ रही हॆं.आपको व रविन्द्र प्रभात जी को इस विशेष प्रयास के लिए धन्यवाद!बुकिंग के लिए 12 अप्रॆल-2011 तक की समय-सीमा-यह तो कुछ नाइन्साफी हॆ-मुन्नाभाई! अब ओरों की तरह से,मॆं भी कहूं-उधार कर लो, कल भेज दूंगा(आज रामनवमी की छुट्टी हॆ)-खुद को शर्म आती हॆ.आखिर! आप भी बाल-बच्चेदार हो.कितना उधार करोगे?बुकिंग की तारीख को थोडा-सा आगे खिसका लो.सच मानो!इस उधारी के धर्म-संकट से बच जाओगे.क्या ख्याल हॆ-आपका?

    उत्तर देंहटाएं
  52. आज खाते में 1350 रूपये भी ट्रांसफर हो गए हैं, उसकी स्कैन कापी तीनों मेल पर भेज दी है.

    कृष्ण कुमार यादव :
    kkyadav.y@rediffmail.com
    http://www.kkyadav.blogspot.com (शब्द-सृजन की ओर)
    http://dakbabu.blogspot.com (डाकिया डाक लाया)

    आकांक्षा यादव :
    kk_akanksha@yahoo.com
    http://shabdshikhar.blogspot.com/(शब्द-शिखर)
    http:// saptrangiprem.blogspot.com (सप्तरंगी प्रेम) http://balduniya.blogspot.com (बाल-दुनिया)
    http://utsavkerang.blogspot.com(उत्सव के रंग)


    अक्षिता (पाखी) :
    akshita_06@rediffmail.com
    http://pakhi-akshita.blogspot.com/ (पाखी की दुनिया)

    उत्तर देंहटाएं
  53. ये तो लगता है वर्ल्ड कप में भारत-पाकिस्तान के सेमीफाइनल मैच के टिकट से भी ज़्यादा मारामारी होने वाली इन किताबों की बुकिंग के लिए...

    हम जैसा फक्कड़ स्वयंभू समीक्षक भी पैसे भेजकर अपनी प्रति सुरक्षित करा रहा है...कुछ अच्छा पाने के लिए कुछ खोना तो पड़ता ही है...

    जय हिंद..

    उत्तर देंहटाएं
  54. मेरी भी प्रति सुरक्षित कर लीजिये ..कल बैंक खुलते ही जमा करवाती हूँ

    उत्तर देंहटाएं
  55. Avinash jee, namaskar
    Mata jee ke dehant ki vajah se apna aalekh apko nahin de paya, aap meri paristhiti samajh sakte hain. Lekin mere dono blog ke add aap ismain shaamil kar sakte hain
    drharisharora.blogpost.com
    mediavimarsh.blogspot.com

    dr. harish arora

    उत्तर देंहटाएं
  56. विनोद जी,
    राम नवमी के अवकाश के कारण बुकिंग की अवधि एक दिन और बढ़ा दी गयी है, शायद अब असुविधा न हो !

    उत्तर देंहटाएं
  57. श्रीमान जी ,

    एक सैट इधर भी!

    उत्तर देंहटाएं
  58. आशीष कुमार अंशु और उमाशंकर मिश्र जी के लिए भी प्रतियां बुक कर ली गई हैं। जैसा कि फोन पर सूचित किया गया है।

    उत्तर देंहटाएं
  59. मैं भी नाम की फिराक में घूमता रहता हूँ.एक तरह से ४५० रूपये में फ़ोकट में किताबें मिल जाएँगी और अपन का नाम भी विद्वानों की सूची में धर जायेगा.इसी बीच मैंने अजय कुमार झा के मार्फ़त ऑर्डर दे दिया है,आशा है,अविनाश भाई मान लेंगे !

    उत्तर देंहटाएं
  60. यहाँ से पैसे भेजना संभव नहीं हो पा रहा है अत: जुलाई में इंडिया आने पर ही भेज सकुंगी. अगर इस तरह ठीक समझें तो कृपया
    हमारी भी बुकिंग कर ली जाये.

    उत्तर देंहटाएं
  61. रविन्द्र प्रभात जी.
    एक दिन तिथि आगे बढाने के लिए धन्यवाद!
    कल ही मनिआर्डर से रु 450/-प्रकाशक : हिंदी साहित्य निकेतन, 16, साहित्‍य विहार, बिजनौर (ऊ.प्र.) 246701 भिजवा देते हॆं.बाकी जानकारी एडवांस में-
    विनोद पाराशर
    ई-मेल पता-vinodparashar1961@gmail.com
    http://www.nayagharblogspotcom.blogspot.com(नया घर)
    http://www.hasgulley.blogspot.com(हसगुल्ले)
    http://www.rajbhashavikasmanch.blogspot.com(राजभाषा विकास मंच)
    http://www.delhibloggersassociation.blogspot.com(दिल्ली ब्लागर्स एसोसिएशन)

    उत्तर देंहटाएं
  62. शिखा जी बिल्‍कुल ठीक समझ लिया है। आपके लिए प्रतियों की बुकिंग की पुष्टि की जाती है। आप अपने बारे में विवरण ई मेल पर भिजवा दीजिए।

    पवन चंदन ने अपने लिए पुस्‍तकों की बुकिंग के लिए कह दिय है। उनका निवेदन भी स्‍वीकार किया गया है। वे अपने बारे में जानकारी मेल पर भिजवा दें।

    उत्तर देंहटाएं
  63. घणा चौखा काम से ... एक म्हारी भी बुक कीजिये जनाब ...

    उत्तर देंहटाएं
  64. बहुत सुंदर प्रयास होगा यह आपका|
    ब्लॉग पढ़ने वालों को बहुत सी नयीं जानकारियां मिलेंगी,
    और ब्लॉग न पढने वालों को "ब्लॉग्गिंग क्या होती है" ये जानकारी

    सादर
    गीतिका वेदिका

    उत्तर देंहटाएं
  65. मैं राशि एक दो दिन में भेज रही हूं। मेरे लिए प्रतियां बुक कर ली जाएं और अपनी जानकारी मेल पर भेज दीजिएग|

    उत्तर देंहटाएं
  66. Avinash ji dono pustak mere liye bhi book karale. Aaj hi 45o ka check CBS shakha ka Sahitya Niketan ke pate par bhejugi.
    pavitra agarwal
    email- agarwalpavitra78@gmail.com
    http://bal-kishore.blogspot.com/
    http://laghu-katha.blgspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  67. एक आशीष जी के लिए भी बुक कर दीजिये. उनके अनुपस्थिति की वजह से उनकी तरफ से मेरा आग्रह है और मेरे लिए भी ...........

    उत्तर देंहटाएं
  68. रश्मि प्रभा जी ने दस प्रतियों की बुकिंग की है और ये धनराशि हिंदी साहित्य निकेतन को भेजी जा चुकी है, सूचनार्थ !

    उत्तर देंहटाएं
  69. waah ji waah ,
    aap sabhi ko namaskar aur pranaam !!!

    main bank me rs.450 /- deposit karwa raha hoon . thodi der baad main mail me receipt ki scan copy bhejunga .

    mere blogs hai :

    http://poemsofvijay.blogspot.com/

    http://spiritualityofsoul.blogspot.com/

    http://comicsofindia.blogspot.com/

    http://shrisaibabaofshirdi.blogspot.com/

    http://photographyofvijay.blogspot.com/

    http://jokesandcomedylife.blogspot.com/

    http://hrudayam-theinnerjourney.blogspot.com/

    http://artofvijay.blogspot.com/

    http://worldofvijaysappatti.blogspot.com/

    aur mera pata hai :

    V I J A Y K U M A R S A P P A T T I
    FLAT NO.402, FIFTH FLOOR,
    PRAMILA RESIDENCY; HOUSE NO. 36-110/402,
    DEFENCE COLONY, SAINIKPURI POST,
    SECUNDERABAD- 500 094 [A.P.].


    Mobile: +91 9849746500

    ba jaldi se mujhe apne dal me shaamil karke muje dono kitaab bijwa dijiye .
    dhanywad
    namaskar
    vijay sappatti

    उत्तर देंहटाएं
  70. ravindra ji

    maine paise jama kara diye hai aur aapko mail bhi bhej diya hia

    dhnaywad.

    vijay

    उत्तर देंहटाएं
  71. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (14-4-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  72. विजय जी,
    धनराशी से संवंधित आपका मेल मिल गया है , आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  73. Dear Mr. Avinash Ji / Mr. Ravindra Ji,

    Please add me too in the list and keep booked one set.

    since, am on roaming and accessing email on cell, could not check yesterday. shall make the necessary deposit to Bank on return in a couple of days.

    Regards,

    Mukesh Kumar Tiwari
    http://tiwarimukesh.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  74. Namskar ji..

    Deendayal Sharma
    10/22 RHB Colony,
    Hanumangarh Jn. 335512
    Rajasthan
    Mob. 09414514666
    E-mail: deen.taabar@gmail.com
    Deendayalsharma.blogspot.com
    ddji.blogspot.com
    taabartoli.blogspot.com
    taabardunia.blogspot.com
    hansimajaak.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  75. मुकेश जी,
    आपकी प्रतियां सहेज दी गयी है, आप सीधे धनराशि प्रकाशक को भेज देवें !

    उत्तर देंहटाएं
  76. दीनदयाल जी, आप राशि सीधे बैंक में जमा करवा कर प्रकाशन संस्‍थान को मेल भेज दीजिएगा।

    उत्तर देंहटाएं
  77. मेरी २ पुस्तकें अभी बुक कर लें, धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  78. जी सर्वत भाई, आपके लिए दो प्रतियां बुक कर ली गई हैं और आपको चार मिलेंगी। यही तो इस योजना का लाभ है।


    धन्‍यवाद सुमित जी। आपकी प्रतियों का आदेश दिखलाई नहीं दे रहा है और लखन मिश्र जी को भी कहिए। ऐसे लगता है आप दोनों नहीं, हम तीनों साथ साथ फेसबुक पर बैठे हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  79. अविनाश जी देर से आने के लिए क्षमा।
    कृपया मेरी प्रति भी बुक कर लीजिए।
    यह बताने का कष्‍ट करें कि कितनी राशि आपके एकाऊंट में डालनी है।
    मेरा ब्‍लाग पता है
    http://atulshrivastavaa.blogspot.com/
    मेरा इ मेल पता है
    aattuullss@gmail.com

    कृपया यह भी बताने का कष्‍ट करें कि क्‍या ब्‍लाग के विवरण के लिए आपको अलग से मेल करना होगा। यदि हां तो किस मेल पते पर।
    अतुल श्रीवास्‍तव
    राजनांदगांव, छत्‍तीसगढ

    उत्तर देंहटाएं
  80. अच्छी जानकारी। धन्यवाद|

    उत्तर देंहटाएं
  81. अविनाश जी, प्रभात जी
    मुझे नाम जुड़वाने का कोई मोह नहीं है मगर मुझे प्रतियाँ चाहिए। पैसा मैं 30 अप्रैल को दिल्ली में दूँगा। कृपया पुष्टि करने का कष्ट करें।

    प्रमोद ताम्बट
    भोपाल

    उत्तर देंहटाएं
  82. DEAR AVINASH BHAI
    CASH TO 30 KO HI DUNGA, LAKIN AABHARI RAHUNGA AGAR MERE LIYE BHI EK PRATI AAP SAMBHAL SAKE TO....

    AAPKA ANUJ
    DR AMIT

    उत्तर देंहटाएं
  83. शुक्रिया अमित भाई, आपकी और आपके ब्‍लॉग का विवरण पुस्‍तक में शामिल कर लिया जायेगा।

    शुक्रिया प्रमोद भाई, मोह आपको नहीं है परंतु हमें तो आपसे जुड़ने का मोह है। पुष्टि बहुत पुष्‍ट है।

    अतुल भाई, विवरण नीचे दिया गया है जो कि मूल पोस्‍ट में भी प्रकाशित है :-
    रुपये 450/- केवल भेजने के लिए आप अपनी सुविधानुसार निम्‍नलिखित तीन विकल्‍पों में किसी एक का चयन कर सकते हैं
    1. आप मनीआर्डर से सीधे हिंदी साहित्य निकेतन, 16, साहित्‍य विहार, बिजनौर (ऊ.प्र.) 246701 के पते पर राशि भेज सकते हैं परंतु मनीआर्डर के पीछे संदेश में अपना पूरा पता, फोन नंबर ई मेल आई डी के साथ अवश्‍य लिखें।
    2. तकनीक का लाभ उठाते हुए आप बैंक ऑफ बड़ौदा, बिजनौर के नाम हिन्‍दी साहित्‍य निकेतन के खाता संख्‍या 27090100001455 में नकद जमा करवा सकते हैं। इस सुविधा का लाभ उठाने के बाद जमा पर्ची का स्‍कैन चित्र मेल पर अपनी पूरी जानकारी के साथ अवश्‍य भिजवायें।
    3. आप यह राशि हिन्‍दी साहित्‍य निकेतन के नाम ड्राफ्ट के द्वारा भी डाक अथवा कूरियर के जरिए भेज सकते हैं। चैक सिर्फ सी बी एस शाखाओं के ही स्‍वीकार्य होंगे।
    आप जिस भी विकल्‍प का चयन करें, उसका उपयोग करने के बाद इन ई मेल पर सूचना भी अवश्‍य भेजने का कष्‍ट कीजिएगा
    giriraj3100@gmail.com, ravindra.prabhat@gmail.com & nukkadh@gmail.com पर जरूर भेजिएगा।


    ज्ञातव्‍य हो कि उपरोक्त दोनों पुस्तकों का सम्मिलित मूल्य है रुपये. 745/- किन्तु लोकार्पण से पूर्व यानी दिनांक २५.०४.२०११ तक संयुक्त रूप से दोनों पुस्तकों की खरीद पर डाक खर्च सहित रू. 450/- ही देने होंगे !

    ऑर्डर सीधे प्रकाशक : हिंदी साहित्य निकेतन, 16, साहित्‍य विहार, बिजनौर (ऊ.प्र.) 246701 के नाम भेजना है !

    किसी प्रकार की शंका होने पर ई मेल भेजने अथवा फोन से बात करने पर हिचकिचाएं मत।

    उत्तर देंहटाएं
  84. श्री आशीष कुमार अंशु, श्री उमाशंकर मिश्र, सुश्री सुषमा सिंह और श्री खुशदीप सहगल से नकद धनराशि प्राप्‍त हो चुकी है। इस राशि को जल्‍दी ही प्रकाशन संस्‍थान के खाते में जमा करवा दिया जाएगा।

    सिद्धेश्‍वर भाई, इन तीन के अतिरिक्‍त अन्‍य कोई विकल्‍प अभी तक तो नहीं है बुकिंग के लिए।

    किसी की टिप्‍पणी का उत्‍तर नहीं आ पाया हो तो दोबारा से टिप्‍पणी में पूछ सकते हैं। इतनी अधिक टिप्‍पणियों के भंवर में हो सकता है कि किसी पर गौर न किया जा सका हो।

    और सबके लिए : 15 अप्रैल 2011 तक अब आप अपनी जानकारी सम्मिलित करवा सकते हैं। यह बिल्‍कुल अंतिम मौका है, इसके बाद इसलिए संभव नहीं होगा क्‍योंकि पुस्‍तक के कागज मशीन में से गुजरने लगेंगे और उन पर वो सब अंकित होने लगेगा, जिसकी सबको इच्‍छा है।

    उत्तर देंहटाएं
  85. और हां, आप अपने साथी ब्‍लॉगरों को इसकी सूचना भेजना मत भूलिएगा। क्‍योंकि वे पुस्‍तक में आपकी प्रकाशित जानकारी को देखकर आपके शिकायत अवश्‍य करेंगे कि आपने मुझे सूचना क्‍यों नहीं दी। इसलिए ऐसा मौका मत आने दीजिए।

    उत्तर देंहटाएं
  86. अविनाश जी एक प्रति मेरी भी सुरक्षित कर लें...

    उत्तर देंहटाएं
  87. जी सुमित जी, सुरक्षित भी कर ली और आपको शामिल भी कर लिया है।

    उत्तर देंहटाएं
  88. चाचा जी एक प्रति मेरे लिये भी रख लिजीयेगा... मुझे भी चाहिये :)

    उत्तर देंहटाएं
  89. निश्चिंत रहो गरिमा बिटिया। बुक कर ली है और प्राप्‍त जानकारी को पुस्‍तक में शामिल होने के लिए भेज दिया गया है।

    उत्तर देंहटाएं
  90. अविनाश जी,
    पुस्तको के संबंध में मेरी ई-मेल भी मिल गयी होगी.बुकिंग पक्की समझे?

    उत्तर देंहटाएं
  91. विनोद जी वो तो पहले ही पक्‍की मान ली गई है अब तो आप कहेंगे तो भी कच्‍ची नहीं होगी।

    उत्तर देंहटाएं
  92. माननीय भाई प्रेम जनमेजय और लालित्‍य ललित जी से भी सूचना प्राप्‍त हो गई है और उनकी जानकारी भी पुस्‍तक में समाविष्‍ट कर दी जाएगी। आभार दोनों साथियों का प्रतियों की बुकिंग के लिए।

    उत्तर देंहटाएं
  93. यह किताब ३ साल पहले प्रकाशित हो जाती तो मुझे प्रोजेक्ट बनाने में कठिनाई नहीं होती .......बहरहाल नए लोगों को जानकर ख़ुशी होगी जैसा मुझे .......वैसे एक प्रति मेरी भी बुक कर लीजिये पेमेंट कैसे करना है यह अवस्य बता दें

    उत्तर देंहटाएं
  94. हद कर दी आपने आज बता रहे है
    एई बेक डेट में काम नही हो सकता क्या?
    या बेक डोर एंट्री? हा हा हा
    कल रूपये भ्ज्वाती हूँ आप मेरी,पद्मसिंह की प्रति बुक कर ले प्लीज़.और.....ऐसी सूचनाओ का उसी तरह ढिंढोरा पिटिए जैसे अन्ना के लिए पीटा था.

    उत्तर देंहटाएं
  95. आदरणीय श्रीरविन्द्र प्रभातजी,

    कृपया मेरा भी एक सेट बुक करें, मैं बैंक में नकद, कल जमा करवा रहा हूँ, बाद में मेईल भी भेज दूँगा ।

    वैसे ये बहुत अच्छा प्रयास है,आपको बधाई ।

    मेरा ब्लॉग है - http://mktvfilms.blogspot.com

    बहुत-बहुत शुक्रिया ।

    मार्कण्ड दवे ।
    mdave42@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं
  96. जी इंदुपुरी जी ढिंढोरा तो कई दिनों से पीट रहे हैं। पर ... न जाने कहां पर साइलेंट जोन है ... खैर ... आपकी आवाज़ आ गई है और दो सैट सैट कर दिए गए हैं। आप तो बस पद्म सिंह और अपने बारे में मेल पर जानकारी भी भिजवा दीजिए। अपने अन्‍य परिचितों/साथियों को भी बतला दें। अभी तो 23 घंटे शेष हैं, वरना वे तो आपसे ही शिकायत करेंगे। हा हा हा

    उत्तर देंहटाएं
  97. पुस्तक प्रेमी तो हम भी है...लेकिन दोनो किताबों के लिए धन राशि जुलाई अगस्त में भारत आने पर ही जमा करवा सकते हैं...

    उत्तर देंहटाएं
  98. रवि धवन जी की भी मेल आ गई है क्‍योंकि दिन में टिप्‍पणी पोस्‍ट नहीं हो रही थी :-

    Respected Sir
    Kindly book my copy too.
    I will pay for it soon

    Regards
    Ravi Dhawan
    Panipat
    Mobile : 9802210057
    email : ravi.dhawan1@gmail.com
    blog : raviafloat.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  99. मीनाक्षी धनवंतरी जी आपकी राशि मैं जमा करवा रहा हूं। आप तो बस मेल पर अपना विवरण भेज दीजिए।

    उत्तर देंहटाएं
  100. Respected Sir
    Kindly book my copy too.
    I will pay for it soon

    Regards
    Pradeep Beedawat
    Pali rajasthan
    Mobile : 9983831415
    email : ps.beedawat@gmail.com
    blog : chetna-ujala.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  101. Respected Sir
    Kindly book my copy too.
    Regards
    Dhitendra Kumar Sharma
    Pali rajasthan
    Mobile : 9928081897
    email : dhitendra.sharma@gmail.com
    blog : pyara-dushman.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  102. रवीन्‍द्र प्रभात जी ने फोन पर सूचित किया है कि जयकुमार झा, संगीता पुरी और मनोज कुमार पाण्‍डेय जी ने फोन अपने लिए बुक की बुकिंग करने के लिए कहा है। उनके लिए प्रतियों की बुकिंग स्‍वीकार कर ली गई है। वे अपना विवरण भिजवा दें। और अपने साथियों को भी बतला दें कि वे भी बुक करवा लें, वरना वे आपसे अवश्‍य शिकायत करेंगे।

    उत्तर देंहटाएं
  103. बहुत जबर्दस्त और ज़रूरी खबर। ज़रूर भेजेंगे और कैश होने की गारंटी भी है।

    यह किताब हम इसलिए नहीं मंगा रहे हैं क्योंकि इसमें हम सफ़र का उल्लेख देखने के अभिलाषी हैं, बल्कि इसलिए क्योंकि इसका अऩूठापन ही इसे मंगाने की बड़ी वजह है।

    अविनाश जी की जै हो....

    उत्तर देंहटाएं
  104. रवीन्‍द्र प्रभात जी/अविनाश जी,

    शायद मुझे यह मेसेज मिलते देर हो गयी. अभी ख्बर मिलने पर पेमेंट करने में लगी तो वह भी ना हो सका क्योंकि NEFT payments भी ६.३० तक ही हो सकते है और इस समय तो १२ बजने वाले हैं.

    यदि हो सके तो मेरे लिए भी एक पुस्तकों का सेट भिजवाने का कष्ट करें. पैसे कल ओंन लाइन ट्रान्सफर कर दूँगी. और अगर हो सके तो मेरे ब्लॉग details भी सम्मिलित करें.

    रचना दीक्षित
    http://rachanaravindra.blogspot.com (Blog: रचना रवीन्द्र)
    http://shashwatidixit.blogspot.com (Blog: Perception)
    email: rachanadixit@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं
  105. अविनाश जी, अब मैं क्या करूँ? आप ही बताइए। आप ही के माध्यम से मुझे अभी कुछ देर पूर्व ही ब्लॉगिंग पर पुस्तक प्रकाशन के संबंध में सूचना मिली थी। अब मैं कल ही इस पुस्तक की प्रति बुक करा पाऊँगी क्योंकि मुझे अभी ही इस बारे में सूचना मिली है। यदि संभव हो सके तो मुझे भी ब्लॉगरों की सूची में यथोचित स्थान दीजिएगा। आप दोनों को पुस्तक प्रकाशन की बहुत-बहुत शुभकामनाएँ।

    उत्तर देंहटाएं
  106. अभी समय है 15 अप्रैल 2011 की सांय 6 बजे तक।

    रचना जी और गायत्री जी आज शाम 6 बजे तक आप इस संबंध में कार्रवाई कर सकती हैं। अपनी जानकारी भी भेज दीजिएगा, पुस्‍तक में जोड़ भी ली जाएगी।

    अपने अन्‍य साथियों को भी सूचित करना मत भूलिएगा। नहीं तो वे आपसे ही तो शिकायत करेंगे।

    उत्तर देंहटाएं
  107. हमारा नुक्‍कड़ ब्‍लॉग की चर्चित मॉडरेटर गीताश्री ने फोन पर अपनी प्रति बुक करने के लिए कहा है। वे राशि भी आज ही भेज रही हैं। उनकी बुकिंग स्‍वीकार कर ली गई है।

    उत्तर देंहटाएं
  108. श्री अजित राय ने भी फोन पर अपने लिए प्रति बुकिंग के लिए कह दिया है। वे भी राशि आज ही दे रहे हैं। उनकी बुकिंग स्‍वीकार ली गई है।

    सुश्री प्रतिभा कटियार जी के अनुरोध को भी मान लिया गया है और उनके लिए भी प्रति बुक कर दी गई है। वे राशि लखनऊ में रवीन्‍द्र प्रभात जी को दे देंगी।

    उत्तर देंहटाएं
  109. मैने चेक भेज दिया है और जानकारी रवीन्द्र प्रभात जी को भेज दी है। धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  110. श्री उमेश चतुर्वेदी ने भी अपने लिए प्रति बुक करवाने के लिए सूचित किया है।

    उत्तर देंहटाएं
  111. अविनाश जी एवं रविन्द्र जी
    नमस्कार ,
    मैंने आज ही यह मेल देखा तो जाना कि आप हिन्दी ब्लॉगिंग पर पुस्तक प्रकाशित कर रहे हैं । कृपया मेरी भी प्रति बुक कर लीजिए । आज मेरा घर से बाहर निकल पाना असंभव है और कल महावीर जयंती है , संभव है कल की छुट्टी हो । अत: मैं सोमवार को मनीआर्डर करके उसकी सूचना आपको मेल पर दे दूंगी ।मुझे बताएं कि क्या ऎसा चल सकेगा ?

    शशि सिंघल
    www.meraashiyana.blogspot.com
    shashi.asma@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं
  112. सर, मुझे भी शामिल कर लें, चेक या कैश जब चाहें, तब आपके पास.http://vinitutpal.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  113. जी शशि जी, आपके लिए प्रति बुक कर दी गई है। आप पोस्‍ट में दी गई मेल पर विवरण भेज दीजिएगा।
    विनीत भाई, आपको भी शामिल कर लिया है, मेल पर विवरण भेज दीजिएगा।

    और एक अनूठा कार्य तेताला ब्‍लॉग पर वंदना गुप्‍ता जी ने आरंभ किया है1 चलिए हम सब मिलकर उनका हौसला बढ़ाएं
    :

    चिट्ठा नहीं पोस्‍टों की चर्चा

    उत्तर देंहटाएं
  114. निर्मला जी की सूचना और धनराशी दोनों प्राप्त हो चुकी है , आप सभी का आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  115. आदरणीय अविनाश जी।

    कृप्‍या मेरे लिए भी बुक की एक प्रति सुरक्षित कर दें।

    मेरा ब्‍यौरा इस प्रकार है-


    Ravinder Punj
    Graphics Designer
    Yamuna Nagar (Haryana)
    Mobile: 097290-93666
    Email: rkpunj@gmail.com
    Blog : http://rkpunj.blogspot.com/
    http://yamunanagarhulchul.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  116. उपरोक्‍त में से अगर
    Yamuna Nagar (Haryana)
    Mobile: 097290-93666
    Email: rkpunj@gmail.com
    हटाना चाहें तो हटा सकते हैं।


    अग्रिम धन्‍यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  117. जी रविन्‍द्र भाई, आपकी प्रति बुक कर दी गई है। अपने अन्‍य सभी साथियों को भी बतला दें ताकि वे बाद में आपसे शिकायत न करें।

    उत्तर देंहटाएं
  118. namskar sir
    mera naam Hema dhoulakhandi hai..mai bhi ek blogger hu. (nadanvichar.blogspot.com) mai bhi aapki pustak lena chahti hu. aur mai yah chahati hu ki aapki es pustak me mere naam aur blog ki jagar mere bhaiya ka naam aur blog prakashi ho.agar yah anumati ho to mai unka aage ka vivaran bhej du..

    उत्तर देंहटाएं
  119. प्रतिभा कुशवाहा जी आपके लिए बुक की बुकिंग कर दी गई है।

    सुरेश यादव जी ने फोन पर बुकिंग के लिए कहा है, उनके लिए भी बुकिंग कर दी गई है।

    हेमा जी आपके अनुमति है, आप विवरण और राशि पोस्‍ट के अनुसार दिए गए पते और ई मेल पर भिजवा दीजिए।

    उत्तर देंहटाएं
  120. श्री चंडीदत्‍त शुक्‍ल जी का फोन संदेश मिल गया है और उनके लिए पुस्‍तक की प्रति बुक कर ली गई है।

    उत्तर देंहटाएं
  121. फौजिया रियाज जी के लिए भी बुक की प्रति बुक कर ली गई है। जय हो हिंदी ब्‍लॉगरों की।

    उत्तर देंहटाएं
  122. sir please mujhe bhi isme shamil karen...
    name : mukesh kumar sinha
    blog : jindagi kee rahen
    url: http://www.jindagikeerahen.blogspot.com/

    kya monday main deposit kar dun to chalega..
    maine ye post abhi padha..:(

    उत्तर देंहटाएं
  123. मुकेश जी ०५ मिनट की लिबर्टी देते हुए आपको भी शामिल कर लिया गया है !

    उत्तर देंहटाएं
  124. hamne avinash jee aapko phone pe bhi try kiya..apne pick nahi kiya:(

    उत्तर देंहटाएं
  125. oh...dhanyawad!! main monday ko uprokt rashi deposit karke mail kar ke bata dunga...dhanyawad!!

    उत्तर देंहटाएं
  126. रुपये तो दुपहर में ही जमा करवा दिये थे, पर सूचना नहीं दे सका ! अब तो देर हो गयी न ! क्या शामिल हो सकेंगे हम भी ?
    ’यथा योग्यं तथा कुरु’!
    रसीद अभी मेल कर दे रहा हूँ ! किताब तो आयेगी न !

    उत्तर देंहटाएं
  127. हिमांशु जी,
    आज की तिथि में जिन्होंने भी धनराशी जमा कर दिए होंगे उनका विवरण पुस्तक में अवश्य अंकित किये जायेंगे, मुझे आपका मेल भी प्राप्त हो चुका है और पुष्टि भी हो चुकी है , आपका धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  128. विनीत जी आपके विवरण को शामिल कर लिया है धनराशि बैंक ऑफ बड़ौदा के उपर्युक्‍त खाते में जमा करवा दीजिए या हिन्‍दी साहित्‍य निकेतन के नाम चैक भिजवा दीजिए। मनीआर्डर भी कर सकते हैं। भेजने के बाद मेल कर अवश्‍य दीजिएगा।

    उत्तर देंहटाएं
  129. ललित शर्मा, संगीता पुरी और अल्‍पना देशपांडे के नाम प्रतियों की बुकिंग के लिए ब्‍लॉगप्रसिद्ध मूंछों वाले ब्‍लॉगर ने सूचित किया गया है, इस तिकड़ी के नाम शामिल करने की सूचना की पुष्टि की जाती है।

    उत्तर देंहटाएं
  130. मेरे लिये दोनों किताबों की बुकिंग कीजिये. पैसा बैंक ऑफ़ बड़ौदा के ज़रिये भिजवा रही हूं.

    उत्तर देंहटाएं
  131. जय हो हिन्‍दी ब्‍लॉंगिंग की।

    क्‍या रिस्‍पांस है।


    पक्‍का है, आने वाला टाईम इंटरनेट मीडिया का है,

    दौर शुरू हो चुका है। सबको अग्रिम बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  132. email- mkumar.teacher@gmail.com

    Rs. 450/- MO se bhej diya hoon.

    Thanks.

    उत्तर देंहटाएं
  133. ओह… अब तक 142 कमेण्ट्स और भारी बुकिंग…
    अब तो यह पुस्तक "ध्यान से देखनी" ही पड़ेगी,

    फ़िलहाल भारी-भरकम उत्सुकता यह है कि -
    1) इस ऐतिहासिक पुस्तक में किस ब्लॉगर का नाम और उल्लेख नहीं है… :)
    2) तथा किन-किन ब्लॉगरों का "विशेष" उल्लेख है… :)

    उत्तर देंहटाएं
  134. इस आश्‍चर्यजनक इतिहास लेखन की जानकारी अभी मिली... बेताब हूँ इतिहास दृष्टि के अध्‍ययन के लिए

    उत्तर देंहटाएं
  135. ’हिंदी ब्लॉगिंग का इतिहास’ में शामिल होने के लिये भी पैसे पड रहे हैं??? उम्मीद करता हूँ कि मैं गलत पढ रहा हूँ...

    उत्तर देंहटाएं
  136. चलिए, अब आ गया सुरक्षित समय
    मेरी प्रतियां सुरक्षित कीजिए, कीमत ३० अप्रैल के कार्यक्रम में चुका दी जायेगी

    पहले इसलिए नहीं कहा
    क्योंकि मैं नहीं चाहता था कि मुझे यह अपराधबोध रहे
    कि
    मैंने धन दे कर अपना नाम किताब में जुड़वाया है

    उत्तर देंहटाएं
  137. बैंक लोन के लिए आवेदन किया था , मगर आज तक धनराशि स्वीकृत नहीं हुई ! अविनाश भाई ...
    अगर आप दोस्त पर भरोसा करते हुए अपनी अंटी ढीली कर सको तो ३० तारीख को पैसा मय ब्याज के पाबला जी से मांग कर चुकता कर दूंगा ! मगर किताब चाहिए ! शुभकामनायें अपने आपको !

    उत्तर देंहटाएं
  138. Markand Dave ने कहा…

    आदरणीय श्रीरविन्द्र प्रभातजी,

    कृपया मेरा भी एक सेट बुक करें, मैंने आज बैंक में नक़द जमा करवा दिए है और अभी बैंक रिसिप्ट कॉपी के साथ, मेईल भी भेज रहा हूँ ।

    वैसे ये बहुत अच्छा प्रयास है,आपको बधाई ।

    मेरा ब्लॉग है - http://mktvfilms.blogspot.com

    बहुत-बहुत शुक्रिया ।

    मार्कण्ड दवे ।
    mdave42@gmail.com
    April 14, 2011 6:08 PM

    उत्तर देंहटाएं
  139. @ सतीश सक्‍सेना जी
    1. सबसे पहले तो लोन आवेदन के कागजात मेल कर दीजिए।
    2. जब बैंक ही भरोसा नही कर रहा है तो .....
    3. पाबला जी से मांग कर और मय ब्‍याज ...
    4. यहां अंटी तो है ही नहीं, थैला है, रहस्‍यमय ...
    5. बंटी वाला गाना नहीं सुनाओगे ...
    6. किताब पर आपका नाम लिखवा कर अलग रखवा ली है, उसकी रखवाली कौन करेगा ?

    और अपना बहुचर्चित कैमरा लाना मत भूलिएगा ...

    उत्तर देंहटाएं
  140. @ पंकज उपाध्‍याय जी
    आप बिल्‍कुल सही पढ़ रहे हैं
    एक इतिहास यह भी बन रहा है
    पुस्‍तक प्रकाशन/लोकार्पण से पूर्व हिंदी पुस्‍तक की खरीद के लिए बुकिंग हुई। आज जबकि बुकिंग का प्रचलन कम हो गया है। जैसे बजाज स्‍कूटर, मारूति कार, एमटीएलएल फोन इत्‍यादि अनादि। हिंदी ब्‍लॉगिंग हिंदी पुस्‍तकों की राख होती साख को पुन: कायम कर रही है।

    उत्तर देंहटाएं
  141. @ पाबला जी

    अब एक अपराध बोध हमें भी रहेगा कि धन पा लिया और नाम न प्रकाशित कर पाए। बहुत सारे चतुराई से धन दे गए हैं और नाम नहीं दे गए हैं और बाद में देने वाले लगता है, सभी पाबला जी का अनुसरण कर रहे हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  142. जिन्‍हें पुस्‍तक प्राप्‍त हो चुकी हो। सीधे रवीन्‍द्र प्रभात जी को सूचित करें।

    उत्तर देंहटाएं
  143. रविन्द्र प्रभात जी , दोनों पुस्तकों का 450 भेजा था आपके प्रकाशक ने एक ही भेजी . क्या नाइंसाफी हो गयी क्या या दूसरी मिलेगी . कुश्वंश@जीमेल.कॉम

    उत्तर देंहटाएं
  144. कमाई का अर्थ यहाँ पैसे की बचत से कमाई यानि अ पेनी सेव्ड इज अ पेनी अरंन्ड से है -
    और नाम का आमेलन पुस्तक मूल्य से अधिक नहीं होगा
    मेरी अल्प बुद्धि से तो यही मतलब निकलता है !

    उत्तर देंहटाएं

आपके आने के लिए धन्यवाद
लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

 
Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz