बनी रहे रंगों के पर्व की गरिमा.......डॉ मोनिका शर्मा

Posted on
  • by
  • डॉ. मोनिका शर्मा
  • in
  • Labels: ,

  • रंगों का त्योंहार होली एक अनूठा पर्व है। इसकी पौराणिक मान्यता तो है ही सामाजिक महत्व भी बङा अर्थपूर्ण है। शांति और सदभाव का संदेश देने वाला यह त्योंहार भेदभाव और ऊंच नीच को भुलाकर एक हो जाने का दिन है। यह त्योंहार उदारता और सहिष्णुता की सीख देता है।

    होली मस्ती और धमाल का त्योंहार है पर इस मस्ती में कई बार त्योंहार की गरिमा ही खो जाती है। मन क्षुब्ध हो जाता है जब होली के हुङदंग के नाम पर हर साल कई जानें जाती है....... अनगिनत सङक दुर्घटनायें घटित होती हैं...... महिलाओं के साथ अभद्रता का व्यवहार होता है।
    पूरी पोस्ट कृपया यहाँ पढ़ें ....

    2 टिप्‍पणियां:

    1. आप को सपरिवार होली की बहुत-बहुत शुभकामनाएँ!

      उत्तर देंहटाएं
    2. रंगों की चलाई है हमने पिचकारी
      रहे ने कोई झोली खाली
      हमने हर झोली रंगने की
      आज है कसम खाली

      होली की रंग भरी शुभकामनाएँ

      उत्तर देंहटाएं

    आपके आने के लिए धन्यवाद
    लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

     
    Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz