जोखिम हैं ई मेल में बहुत सारे : ई मेल पता बदल लें मेरा (अविनाश वाचस्‍पति)

nukkadh@gmail.com
मेरा ई मेल खाता avinashvachaspati@gmail.com भर चुका है लबालब
अब मुझे भेजें ई मेल nukkadh@gmail.com पते पर
पहले वाले में भेजेंगे
तो वे नहीं पहुंच पायेंगे
इसलिए नुक्‍कड़ एट जीमेल डॉट कॉम पर भेजें
और संपर्क में बने रहें।

खाता वो भी बना रहे
पर उसमें मेल नहीं पहुंचेगी
भर चुका है खाता
इसलिए मेल बाहर ही
फैल जाएगी और
मुझे मालूम भी नहीं होगा
इसलिए ....

क्‍या करेंगे
मुझे बतला दीजिए

1 टिप्पणी:

  1. 250 रूपये खर्च करें
    आधिकारिक रूप से अपने वर्तमान जी-मेल भंडारण को तीन गुना कीजिए
    सम्पर्क कीजिए अपने स्थानीय तकनीकी सलाहकार से

    या फिर पुराने खाते का रूख मोड़ दीजिए नए खाते की ओर
    कोई मेल नहीं होगी फिर फेल

    उत्तर देंहटाएं

आपके आने के लिए धन्यवाद
लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

 
Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz