जिसने रास्ते बताये खुद गली मै खड़े थे ...

आप सभी पत्रकार बंधुओं का सहयोग के लिए शुक्रिया ....आप लोगों के कारण कार्यक्रम सफल रहा .....आप जेसे बुधिजीवी लोगों ने ब्लॉग लेखन हिंदी मै शुरू किया और आप जेसे कई लोग हिंदी ब्लॉग से जुड़े इससे बड़ी क्या सफलता हो सकती है ??........इस कार्यक्रम मै हर चीज अच्छी करने कि कोशिश कि है पर किसी कमी का रह जाना स्वाभाविक है उसके लिए माफी चाहूँगा I हो सकता हो किसी दूर दराज / दूसरे प्रांत से आने वाले हिंदी प्रेमी से चाय पूछने मै भी देरी हो गई हो उसके लिए माफी चाहूँगा I ये पहले कोशिश थी अगले अनुभव मै और सुधार होगा ...साथ कि हिंदी प्रेमी ब्लोगरों ने निमन्त्रण स्वीकार किया और पधारे उसके लिए आभारी .....75 साल से ज्यादा उम्र के हिंदी प्रेमी भी पहुचे यही से अंदाजा लगाया जा सकता है कि कार्यक्रम केसा रहा ...मेट्रो स्टेशन से पैदल चलकर यहा हिंदी प्रेमी पहुचे I जितनी आशा थी बल्कि उससे ज्यादा हिंदी प्रेमी आये उसका प्रमाण कुर्सियां कम पड़ना है I मै फिर से सहयोग कर्ताओं को प्रणाम करता ..किसी का नाम नही लूगा सभी का अपनी अपनी जगह अहं सहयोग था ...चाहे रसोइया हो चाहे गली मै मंदिर का रास्ता बताने वाला ..........
जिसने रास्ते बताये खुद गली मै खड़े थे ...
जिसने सब्जी बनाई खाई नही खाते देखे थे ....
पूरी बेली ..पूरी बनाई ..पर किसी से पहले नही खाई .
हिंदी के लिए कसम दी और दिलाई ....
मै उन सभी को नमन करता हूँ ....

जय हिंदी ....................

अनिल अत्तरी दिल्ली ..................

6 टिप्‍पणियां:

  1. आप सब से मिलकर अच्छा लगा...ऐसे आयोजन लगातार होते रहने चाहिए

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह....वास्तव में शानदार रहा ब्लोगर,पत्रकार तथा साहित्यकारों का ये संगम ......ब्लोगिंग निश्चय की आगे बढ़ रहा है तथा सही मायने में मिडिया का रोल अदा करने की और अग्रसर हो रहा है.....इसके लिए अनिल अतरी जी तथा रजनीकांत तिवारी जी जो असल पत्रकार हैं को हार्दिक धन्यवाद तथा आभार....आप दोनों की वजह से मैं पत्रकारों का आह्वान उस भ्रष्टाचार के खिलाप उस जनयुद्ध के लिए कर सका जिस जनयुद्ध में हर इमानदार इंसान का शामिल होना आवश्यक है...क्योकि ये हैवानियत के खिलाप भी एक युद्ध है....इस जनयुद्ध के कार्यक्रम की ज्यादा जानकारी इस ब्लॉग पर है...
    http://gantantradusrupaiyaekdin.blogspot.com/2011/01/30-2011.html
    http://www.indiaagainstcorruption.org/

    उत्तर देंहटाएं
  3. आप बधाइ के पात्र है...शुक्रिया

    उत्तर देंहटाएं
  4. इस सफ़लता के लिये सभी आयोजको को ओर सभी मित्रो को बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  5. अनिल अत्री जी ,
    आपके प्रयास से यह कार्यक्रम सम्पन्न हुआ ...बधाई और शुभकामनाएँ ...

    उत्तर देंहटाएं

आपके आने के लिए धन्यवाद
लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

 
Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz