तुम्‍हारे शब्‍दों से अलग

Posted on
  • by
  • अविनाश वाचस्पति
  • in
  • Labels:
  • इस कविता संग्रह के कवि का नाम नहीं, इनके ब्‍लॉगों के नाम बतलायें।
    इस पुस्‍तक के प्रकाशक कौन हैं
    इसका विक्रय मूल्‍य कितना है
    क्‍या इस पुस्‍तक का लोकार्पण हो चुका है
    अगर नहीं, तो कब और कहां होना है
    इसकी भूमिका किसने लिखी है
    चलिये छोडि़ये
    फ्लैप वक्‍तव्‍य किस कवि का लिखा है
    इस पुस्‍तक में कुल कितनी कवितायें हैं
    कवितायें छंदबद्ध हैं या छंदमुक्‍त
    या दोनों हैं
    ऐसा तो नहीं यह कहानी संग्रह हो
    या हो उपन्‍यास
    लगाइये कयास।

    सभी प्रश्‍नों के सही उत्‍तर बतलाने वालों को समीक्षा के लिए पुस्‍तक की दो प्रतियां भिजवाई जायेंगी।

    5 टिप्‍पणियां:

    1. सुशील कुमार
      भेजिये गलत हो तो भी मैं कि़ताब खरीद के पढ़ता हूं

      उत्तर देंहटाएं
    2. ...और जो सही न बताए उसे एक कॉपी तो मिलनी ही चाहिये

      उत्तर देंहटाएं
    3. जी मुझे तो नहीं पता। आप ही बता दें।

      उत्तर देंहटाएं
    4. सारे कयास आप लगाइये मगर हमे एक प्रति जरूर भिजवाइये।

      उत्तर देंहटाएं

    आपके आने के लिए धन्यवाद
    लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

     
    Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz