झगड़े की जड़ है इन्सान

Posted on
  • by
  • उपदेश सक्सेना
  • in
  • Labels:
  • (उपदेश सक्सेना)
    स्‍वाभिमान टाइम्‍स 18.1.2011
    बहुत समय पहले की बात है। उन दिनों इंसान अकेला रहता था। उसके पास गाय-बैल, घोड़ा, कुत्ता जैसे जानवर नहीं थे। सभी पशु अलग-अलग रहते थे और उनका दर्जा इंसान से जरा भी कम नहीं था। इंसान और बाक़ी जानवर आपस में बात करते, एक-दूसरे से कभी दोस्ती कर लेते और कभी लड़ भी पड़ते। ऐसे ही एक बार बैल और घोड़े में झगड़ा हो गया। दोनों पहले अच्छे दोस्त थे और झगड़ा बहुत मामूली बात पर हुआ था, लेकिन दोनों एक-दूसरे को फूटी आंख नहीं सुहा रहे थे। बैल और घोड़ा इसी फ़िराक़ में रहते थे कि कैसे अगले का नुक़सान किया जा सके। सो, एक दिन घोड़ा इंसान के पास पहुंच गया। उसे पता था कि इंसान के पास बहुत दिमाग़ है और उसे दोनों हाथों और पैरों का कई तरह से इस्तेमाल कर सकने में महारत हासिल है। बैल से दुश्मनी के चक्कर में वह आदमी के पास मदद मांगने पहुंच गया था।

    10 टिप्‍पणियां:

    1. उसे पता था कि इंसान के पास बहुत दिमाग़ है.
      फिर भी घोडा इन्सान से मदद मांगने गया और बैल सहित उनकी अगली पूरी प्रजाति उस समय की मांगी गई मदद की आज तक कीमत चुका रही है ।

      उत्तर देंहटाएं
    2. अगर सब ठीक-ठाक रहा तो 21.12.2012 को टंटा ही ख़त्म हो जाएगा :)

      उत्तर देंहटाएं
    3. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
      प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
      कल (17/1/2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
      देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
      अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।
      http://charchamanch.uchcharan.com

      उत्तर देंहटाएं
    4. अरे वाह बात बैल और घोड़े की थी
      मगर चित्र कुत्ते-बिल्ली का लगाया है!

      उत्तर देंहटाएं
    5. बहुत अच्छा लगा आपके ब्लॉग पर आकर ..
      कभी समय मिले तो हमारे ब्लॉग//shiva12877.blogspot.com पर भी अपनी एक दृष्टी डालें .... धन्यवाद

      उत्तर देंहटाएं
    6. दो के झगड़े मैं तीसरा तो फायदा उठावेगा ...उनकी के ऐसी तेसी होवे थी ..इंसान के पास गये .............
      Anil Attri ..............

      उत्तर देंहटाएं
    7. itni kathayen sunane ke bad bhi bail aur ghode ko to chhodo insan ko bhi samajh nahi aayee....khas kar hame....har jhagde ko kisi choudhari ke pas ham abhi tak le ja rahe hai....

      उत्तर देंहटाएं

    आपके आने के लिए धन्यवाद
    लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

     
    Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz