दिल्ली का मौसम सुहाना, मीटिंग-ए-ब्लॉगराना....खुशदीप

शेर सिंह ललित शर्मा का दो दिन पहले फोन पर आदेश हुआ था कि दिल्ली में 19 दिसंबर को शाम छह बजे ब्ल़ॉगर मीटिंग है...ललित भाई ने साथ ही एक ऐसा लालच भी रख दिया कि किसी के लिए ठुकराना मुश्किल था...ललित जी के मुताबिक रायपुर से आए ग्राम चौपाल ब्लॉग के अशोक बजाज और भिलाई से ब्लॉगिंग के सिंह इज़ किंग बी एस पाबला  भी मीटिंग में मौजूद रहेंगे...मीटिंग भी दिल्ली के सबसे प़ॉश इलाके चाणक्यपुरी के छत्तीसगढ़ भवन में थी...अब ललित जी ने तो आना नहीं था वो अभनपुर छत्तीसगढ़ घर से ही रिमोट कंट्रोल से मीटिंग से जुड़े थे...हमारी कुल्फी जमाने के लिए उन्होंने कड़ाके की ठंड में मीटिंग का टाइम रखा...शाम छह बजे...लेकिन बैठक में जो गर्मजोशी थी उससे सारी ठिठुरन दूर हो गई...

बाएं से दाएं...संजू तनेजा, राजीव कुमार तनेजा, सुरेश कुमार यादव, पदम सिंह, शाहनवाज़ सिद्दीकी, अविनाश वाचस्पति, कनिष्क कश्यप, अशोक बजाज, खुशदीप सहगल, बीएस पाबला, कुमार राधारमण और जयराम विप्लव
ललित जी ने मीटिंग के दौरान फोन पर सबको शुभकामनाओं का संदेश दिया...संगीता पुरी जी ने भी बोकारो से  और काशी से डॉ अरविंद मिश्र ने फोन पर सबसे बात की...संयोग से संगीता जी और अरविंद जी दोनों का ही आज जन्मदिन...मीटिंग में जितने भी ब्लॉगर मौजूद थे, सबने संगीता जी, अरविंद मिश्र  जी को बधाई दी...

बैठक में जलपान के साथ कब तीन घंटे बीत गए किसी को पता नहीं चला...बैठक में जो तय हुआ, वो तो अब विस्तार से सब पोस्ट लिखेंगे ही, लेकिन इस पर सब राजी थे कि ब्लॉगिंग के लेवल को अब ऊपर उठना चाहिए....व्यक्तिगत ब्लॉगिंग से ऊपर उठ कर सामाजिक सरोकारों के लिए भी अब कुछ करना चाहिए...अशोक बजाज जी ने वादा किया कि उनसे जो भी संभव हो सकेगा वो वृद्ध कल्याण जैसे सरोकारों के लिए हर मुमकिन सहयोग देंगे...

मीटिंग में मौजूद रहे ब्लॉगरगण-

अशोक बजाज- ग्राम चौपाल

बीएस पाबला- जिंदगी के मेले


अविनाश वाचस्पति- नुक्कड़


सुरेश यादव- सार्थक सृजन


जयराम विप्लव- जनोक्ति


शाहनवाज़ सिद्दीकी- प्रेमरस


राजीव कुमार तनेजा- हंसते रहो


संजू तनेजा- आइना कुछ कहता है

पदम सिंह- पद्मावलि


कनिष्क कश्यप- विचार मीमांसा, ब्लॉग प्रहरी


रेवा राम यादव- भावी ब्लॉगर


कुमार राधारमण-स्वास्थ्य सबके लिए




और रिपोर्ट देने वाला मैं तो था ही- खुशदीप सहगल- देशनामा



इससे आगे की रिपोर्ट यहां पढ़िए-



ब्लॉगिंग, सामाजिक सरोकार, छत्तीसगढ़ भवन बैठक...खुशदीप

14 टिप्‍पणियां:

  1. संजू तनेजा जी का नाम छूट गया है खुशदीप भाई ..मैं नहीं पहुंच सका इसका अफ़सोस है ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. आप सबसे मिलकर अच्छा लगा...ऐसी मुलाकातें लगातार होती रहनी चाहिए

    उत्तर देंहटाएं
  3. हा!...हाय...मेरा नाम कित्थे गया?

    उत्तर देंहटाएं
  4. सॉरी संजू भाभी,
    मैं जब सब ब्लॉगरों के नाम लिख रहा था, तो अपना नाम भी भूल गया था...मीटिंग में बारह ब्लॉगर थे, मुझे ग्यारह नाम ही मिल रहे थे...फिर अविनाश वाचस्पति जी ने ध्यान दिलाया कि मैंने अपना नाम लिखा या नहीं...तब सबसे आखिर में लिखा...आपके नाम की गलती सुधार ली है...

    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
  5. ब्लॉगरों से प्रत्यक्ष परिचय का यह अनुभव ख़ास था। पाबला जी विशेष बधाई के पात्र हैं जिनके कारण यह सब संभव हो सका। ब्लॉग परिवार को साथ बैठकर अपने अनुभव शेयर करते देखना सुखद रहा। विश्वास है,यह कड़ी और लम्बी तथा मज़बूत होगी।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत मज़ा आया सभी लोगो से मिलकर... कई पुराने साथियों से मुलाक़ात हुई वहीँ कुछ नए (ब्लोगिंग में पुराने, लेकिन रूबरू पहली बार मिले) चिट्ठाकारों से मिलकर बहुत बढ़िया लगा. खुशदीप भाई ने एकदम सही कहा, ब्लोगिंग का एक लेवल पूरा होने को है अब अगले लेवल पर आना चाहिए... यानी अब ज़मीन पर काम करने का समय आगया है...

    उत्तर देंहटाएं
  7. "इस पर सब राजी थे कि ब्लॉगिंग के लेवल को अब ऊपर उठना चाहिए....व्यक्तिगत ब्लॉगिंग से ऊपर उठ कर सामाजिक सरोकारों के लिए भी अब कुछ करना चाहिए"
    बात तो सही है लेकिन क्या इस बात पे सब सच मैं राजी थे?
    या केवल मंत्रियों वाले वादे और इरादे ?
    सामाजिक सरोकारों पे मैंने भी बहुत कुछ कहा है...सभी से निवेदन है की यहाँ आयें और कोई शांति सन्देश दें...

    उत्तर देंहटाएं
  8. अगर हमे भी पता चलता तो हम भी जरुर पहुचते (फ़ोन से), लेकिन हमे तो अब पता चला,पढ कर बहुत अच्छा लगा, धन्यवाद इस जानकारी के लिये

    उत्तर देंहटाएं
  9. हार्दिक बधाइयां मीनू क्या था

    उत्तर देंहटाएं
  10. मैं कल कार्यालय में काफी व्‍यस्‍त रहने के कारण इस मीटिंग में नहीं पहुंच पाया। पर मैं हिन्‍दी ब्‍लॉगिंग में मानसिक रूप से सदा जुड़ा रहता हूं। इससे अलग करके मैं स्‍वयं को नहीं देख पाता हूं। बस कुछ मजबूरियां हैं, जैसे इन मजबूरियों से दूरियां होंगी, आप सबसे नजदीकियां हो जायेंगी।

    ब्लॉगिंग, सामाजिक सरोकार, छत्तीसगढ़ भवन बैठक...खुशदीप

    गिरीश बिल्‍लौरे और अविनाश वाचस्‍पति की वीडियो बातचीत

    उत्तर देंहटाएं

आपके आने के लिए धन्यवाद
लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

 
Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz