व्‍यंग्‍यकार के स्‍वर में सुनिए सोपानस्‍टेप के दिसम्‍बर अंक में प्रकाशित व्‍यंग्‍य : गोरी तेरा गांव बड़ा प्‍यारा, मैं तो गया मारा, आ के यहां रे ....

Posted on
  • by
  • अविनाश वाचस्पति
  • in
  • Labels:
  • http://bambuser.com/channel/avinashvachaspati/broadcast/1272767

    4 टिप्‍पणियां:

    1. हूं.... प्रयोग तो सही है पर परिजनों की आवाजें दरवाजा खुलने की चूं नहीं आनी चाहिए थी। रात के सन्‍नाटे में रिकार्ड करना था।

      उत्तर देंहटाएं
    2. पहला प्रयास है पवन जी
      दूसरे में नहीं रहेगी शिकायत जी।

      उत्तर देंहटाएं

    आपके आने के लिए धन्यवाद
    लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

     
    Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz