आज हम खूब नाचेंगे गायेंगे|

Posted on
  • by
  • beena
  • in
  • आज हम खूब नाचेंगे गायेंगे ।
    आज चाचा का जन्म दिन है इसे बाल दिवस भी कहते है तो यह हमारा जनदिन हुआ ना ।दीदी तो कह रही थी कि आज तुम्हे कोई नही डांटेगा ,आज तुम केवल मस्ती करोगे ,आज केवल प्यार ही प्यार मिलेगा पर मै तो जब से उठा हू मा बात -बात पर नाराज हो रही है कभी कहती है आज तो छुट्टी है अभी सेकहा चल दिया जुल्फे काढ कर ।एक दिन तो मिला है ये तो है नही कि कुछ घर मे काम-धाम करे । मा आज बालदिवस है ना आज तो मै गाना गाऊंगा मुझे राजा बनना है और पता है मा मिठाई भी मिलेगी ।बस बस भाई को सम्भाल बहुत हो गई तेरी बकबक ।और पिताजी ने तो सुबह से ही मूड् खराब कर दिया ।चल देती रोज बस्ता लेकर स्कूल् जायेगी। अरे घर का काम काज देख ,चार कोठियो मे काम कर । पिताजी ,पर आज तो बाल दिवस है ना । तो ,ऐसे नेताओ के जन्म दिन तो रोज होते है हमे उससे क्या ?चुप चाप बोरी उठा और कबाडा चुन कर ला , दोपहर बाद लकडी चुन कर भीलानी है।अरे होंगे कोई चाचा नेहरू ,होता होगा बच्चो का बाल दिवस यहा तन ढकने के लिए कपडे नही खाने के लिए भर पेट भोजन नही मिलता छोटा रोज बिना दूध के ही सोजाता है । पर पिताजी कम से कम आज तो मुझे मत डांटिए ।
    आज तो सब उल्टा पुल्टा हो गया । लो और अब ये पिताजी के दोस्त और आगए ।बस ये दोनो बैठ कर ठर्र्रा पीयेंगे और ताश खेलेगे। मन गया मेरा तो बाल दिवस । बस अब सारा दिन घर मे बैठो और इनकी चिक-चिक सुनो। अरे आज स्कूल खुला होता तो कम से कम दीदी नेहरू चाचा की बात तो बता ती नही तो मै पुस्तकालय की रंगीन किताबो को पढ लेता । बस कर दी छुटी और मन गया हमारा बाल दिवस।
    सोनू को देखो कैसा तैयार होकर इतरा रहा है । और सब बच्चे हाथो मेन मिठाई के पेकिट लेकर आ रहे है। अगली बार तो मै अपना स्कूल बदल लूंगा । कर दी बाल दिवस पर छुट्टी । मैने तो सोचा था कि आज स्कूल मे खूब सारे गाने गारता और सब मुझे प्यार से कहानी सुनाते पर अब क्तया हो सकता है । चाचा नेहरू आप हीमेरी बात सुन लो । क्या आपको अच्छ लग रहा है कि आज किसी बच्चे की आंखो मे आंसू हो नही ना फिर मेरे मा-पापा को समझादो ना कि आज बाल दिवस है आज तो सब्को मेरी ही बात माननी चाहिए पर ये बडे लोग हमे कही और कभी बडा मानने के लिए तैयार नही । बस्जब देखो इनका ही कहना मानो , अपने मन से कुछ मत करो। अब जल्दी से सुबह हो ,स्कूल खुले तो मै तीचर जी से कह दूंगा देखो दीदी, ये बाल दिवस पर छुट्ती बुट्टी मत करा करो। अब देखो ना मा ने एक बडा सा बोतरा कन्धे पर रख दिया और कह दिया कि जा और लकडिया चुन कर ला ,तभी तो रोटी बनेगी। और देखो मेरे दोस्त की बहिन भी उसे डांट रही हैकि क्यो समय खराब कर रहा है बोरा उठा और कबाडा बीन । तू समझता क्यो नही हम बच्चो के लिए कोई बाल्दिवस विवस नही होता । हमे तो रोज एक ही चिंता करनी है कि पेत कैसे भरे । देख रे तूने ज्यादा तीन पांच की तो कल से स्कूल जाना भी बन्द हो जायेगा ।
    अब समझ आया कि ये बाल दिवस हमारेलिए नही है । अच्छा तो वो दूसरे बच्चे होंगे जिनके लिए बाल दिवस होता होगा । कोई बात नही जब मै मर कर चाचा के पास जाऊंगा तो पूछूंगा जरूर क्यो चाचू ,आप भी बच्चो मे भेद भाव करते हो । उस के लिए बाल दिवस और हमरे लिए काम दिवस।

    5 टिप्‍पणियां:


    1. बेहतरीन पोस्ट लेखन के लिए बधाई !

      आशा है कि अपने सार्थक लेखन से,आप इसी तरह, ब्लाग जगत को समृद्ध करेंगे।

      बाल दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं !

      आपकी पोस्ट की चर्चा ब्लाग4वार्ता पर है-पधारें

      उत्तर देंहटाएं
    2. बाल दिवस की शुभकामनायें... सादर

      उत्तर देंहटाएं
    3. बाल-मन की कोमल भावनाओं को बढ़ी ही सफलता से अभिव्यक्त किया है !
      बाल दिवस पर एक सार्थक पोस्ट !
      धन्यवाद !
      -ज्ञानचंद मर्मज्ञ
      www.marmagya.blogspot.com

      उत्तर देंहटाएं

    आपके आने के लिए धन्यवाद
    लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

     
    Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz