दो चौके आठ पढ़ें ब्‍लॉगरी का पहला पाठ

Posted on
  • by
  • अविनाश वाचस्पति
  • in
  • Labels:
  • पहचान तो आप दोनों को ही लेंगे
    मान गए हैं आपको
    मजबूत हिन्‍दी ब्‍लॉगर हैं आप
    पहचान गए मुझको
    मैं भी पहचान लेता आपको
    पर दिख नहीं रहे हैं आप।





    हिन्‍दी ब्‍लॉगर इन्‍हें न पहचानें
    मानने योग्‍य बात नहीं है
    फोटो जब खींची है
    दिन है रात नहीं है
    दिन का भरपूर उजाला है
    ब्‍लॉगरी का शुभ दिन है
    चर्चा का मतवाला है
    छलक रहा है आंखों से
    शब्‍दों से झर रहा है
    बरस रहा है
    मन में सीधे उतर रहा है।

    11 टिप्‍पणियां:

    1. दो को पहचाने एक को नहीँ
      कृपया नाम भी बता देते ।
      कविता में ही।:)

      उत्तर देंहटाएं
    2. आप इतना भी मत सताईये
      इस पहेली का हल आप ही बताईये.

      उत्तर देंहटाएं
    3. पहचान गये जी सब अपने भारतिया ही हे,

      उत्तर देंहटाएं
    4. हम बडे रिजर्व हैं। मिलते न जुलते ज्यादा

      यही होती वजह है कि न जान पाते ना पहचान पाते
      , सो यदि नाम भी होता तो आपके साथ देखने की खुशी भी चौगुनी हो जाती। वैसे बता भी दीजिये कौन कौन हैं?

      उत्तर देंहटाएं
    5. एक हैं प्रिय भाई शिवम् मिश्रा
      दूसरी हैं दिव्‍या दत्‍ता
      ब्‍लॉगर नहीं हैं।

      उत्तर देंहटाएं
    6. आपने बता दिया तो दिव्या दत्ता को पहचान गये वरना बस, शिवम को पहचान कर रह जाते.

      उत्तर देंहटाएं
    7. मुलाकात बढ़िया रही ......और यह पोस्ट भी ........आभार अविनाश भाई !

      उत्तर देंहटाएं

    आपके आने के लिए धन्यवाद
    लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

     
    Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz