नईदुनिया में मेरा व्यंग्य ‘मालामाल करने के लिए चिरौरिया’

Posted on
  • by
  • प्रमोद ताम्बट
  • in
  • Labels:
  • नईदुनिया में मेरा व्यंग्य ‘मालामाल करने के लिए चिरौरिया’ अवश्य पढ़े। आपकी प्रतिक्रिया का इंतज़ार रहेगा।

    प्रमोद ताम्बट

    4 टिप्‍पणियां:

    1. मैंने आज सुबह ही पढ़ लिया था इसे और मैं एक बार मालामाल हो भी चुका हूं। ब्‍लॉगजगत में आने से पहले। सोच रहा था कि टिप्‍पणी कहां करूं परंतु आपने अपने घर में अवसर दिया। सचमुच में मालामाल कर दिया प्रमोद भाई।

      उत्तर देंहटाएं
    2. अविनाश जी,
      हमारे सारे घर आपके लिए हमेशा खुलें हैं कहीं भी टिप्पणी कर सकते हैं।
      प्रमोद ताम्बट

      उत्तर देंहटाएं
    3. तांबट साहिब बहुत बहुत बधाई\ अभी पढ्ती हूँ

      उत्तर देंहटाएं

    आपके आने के लिए धन्यवाद
    लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

     
    Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz