जनानों की मर्दानगी....

Posted on
  • by
  • मयंक
  • in

  • महिला दिवस पर मुझे करीब डेढ़ साल पहले लिखी अपनी एक कविता याद आ रही है...उसे आप सब के साथ बांटना चाह रहा हूं....क्योंकि आधी आबादी अब पूरी दुनिया जीतने को तैयार है....आप मानें या न मानें....


    माँ अब तुम तैयार रहो

    बनने के लिए पिता

    यकीन करो

    तुम उतनी ही जिम्मेदार हो


    बहन अब तुम जान लो

    हो सकता है रक्षा करनी पड़े

    तुम्हे भाई की अपने

    क्या तुम तैयार हो ?


    गृहस्वामिनी क्या तुम्हे नहीं लगता

    कि घर तुम्हारी क्षमताओं के आगे

    छोटा पड़ गया है

    क्यूँ ना अब सीमाएं तोड़ भागें


    दुलारी बेटियों क्यूँ अब तुम्हे

    सड़क के मोड़ पर बैठा

    कोई दानव करेगा परेशान

    उठाओ हाथों को उसे अहसास कराओ

    तुम में भी है जान


    छोड़ कर दायरों को

    तोड़ बंधनों को

    अपेक्षाओं से परे

    सीमाओं से आगे


    तुम्हारा आकाश खिड़की से दीखता

    बादल का टुकडा नहीं

    वो क्षितिज का कोना है

    कोई दुस्वप्न या दुखडा नहीं


    उनकी भाषा में उनको जवाब देना

    अब तुम्हारी ज़िम्मेदारी है

    उन्होंने बहुत मर्दानगी

    अब जनानो की बारी है


    -मयंक सक्सेना

    14 टिप्‍पणियां:

    1. बहन अब तुम जान लो

      हो सकता है रक्षा करनी पड़े

      तुम्हे भाई की अपने

      क्या तुम तैयार हो
      I agree chona i think i am already doing that....hihihi...just kiddin ...today girls know their potential and they are ready to win d world with their skills like me..men like u are required more in this world. hope every girl gets a good household full of males like u...nice poem anyways as usual beta.....

      उत्तर देंहटाएं
    2. sach kaha hai..
      main bhi taiyyar hun..
      MAHILA DIWAS par aapki bhent acchi lagi...

      उत्तर देंहटाएं
    3. सकारात्मक सोच से परिपूर्ण रचना ।

      उत्तर देंहटाएं
    4. अच्छी पेश कश...अच्छी रचना की.

      उत्तर देंहटाएं
    5. क्यूँ अब तुम्हे कोई दानव करेगा परेशान
      उसे अहसास कराओ तुम में भी है जान
      अपेक्षाओं से परे ,सीमाओं से आगे
      क्यूँ ना अब सीमाएं तोड़ भागें

      बदलते समय में अब यह सभी की ज़िम्मेदारी है

      बहुत देखा औरों को ,अब ज़नानों की बारी है

      उत्तर देंहटाएं
    6. वेहद उर्जावान कविता और जोश भरते हुए विचार.
      http://hariprasadsharma.blogspot.com/2009/09/blog-post_2067.html

      उत्तर देंहटाएं

    आपके आने के लिए धन्यवाद
    लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

     
    Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz