क्‍या आज धरती खत्‍म हो जाएगी ? (अविनाश वाचस्‍पति)

Posted on
  • by
  • अविनाश वाचस्पति
  • in
  • Labels: ,

  • दैनिक सांध्‍य टाइम्‍स में दिनांक 30 मार्च 2010 को प्रकाशित इस खबर पर इमेज पर क्लिक करके पढि़ए और आप भी विचार कीजिए।

    अगर हो जाएगी खत्‍म
    तो पता कैसे चलेगा
    किसको चलेगा पता
    हर कोई लापता मिलेगा
    पर किसको मिलेगा
    जब होगा ही नहीं कोई
    कैसी है यह फसल बोई
    चिंतातुर होते हैं पर
    चिंतन नहीं करता कोई
    कि क्या इसे
    धरती का समापन समारोह
    मानना चाहिए या नहीं
    जानना चाहता हूं मैं।

    12 टिप्‍पणियां:

    1. अगर बच रहे तो कल मिलेंगे...अभी तो तान कर सो जाते हैं. :)

      उत्तर देंहटाएं
    2. होने दो खत्म धरती
      आज तो हम सीचने जा रहे है
      जमीन का वह टुकड़ा
      जो पड़ा है परती

      उत्तर देंहटाएं
    3. अविनाश जी !

      हमेशा के लिए विदाई लेते हैं दोस्त ,
      पता नहीं कल रहे या न रहें
      ऊपर भी आपसे एक शिकायत रहेगी ,
      उस दिन राजीव तनेजा के घर पर
      अपनी तो ३ पेज की रचना सुना दी
      और हमारी बारी आयी तो बात ही घुमा दी,

      उत्तर देंहटाएं
    4. मेरे बैंक वाले कहते हैं...अभी खत्म नहीं हो रही है सर, जब तक आप पूरी किश्तें न चुका दें

      उत्तर देंहटाएं
    5. @ सतीश सक्‍सेना
      शिकायत तो सदा रहनी चाहिए
      इससे स्‍मृतियां कुलबुलाती रहती हैं
      फिर कुल बुलाती हैं
      तब आप 300 पेज की सुना सकते हैं
      पर तीन पेज की एवज में नहीं
      मैं बिल्‍कुल नहीं सुनाऊंगा
      बस आपकी ही सुनता जाऊंगा

      पर ऐसा बेध्‍यानी में हुआ होगा
      थोड़े से अज्ञानी हैं न
      इसलिए ज्ञान लेने की बुलाहट रहती है
      सदा मन में।

      उत्तर देंहटाएं
    6. धरती की क्या चिंता है?
      मानव सर्वश्रेष्ठ तो बन ले,
      इतिहास तो रच ले,
      उसको पढ़ने वाला कोई
      कल बचे न बचे
      अभी तो सुर्खियाँ बना कर
      सबसे पल भार के लिए
      विदाई ही ले लेते हैं.
      रहे तो फिर
      कल फिर मिल लेते हैं.

      उत्तर देंहटाएं
    7. गर बच गये तो कल फिर मिलेंगे……………।वैसे हम अभी नही मरने वाले क्युकि कल कभी नही आता।

      उत्तर देंहटाएं
    8. ऐसे थोड़े ही छोड़ दूंगा कल बताता हूँ आपको ....

      उत्तर देंहटाएं
    9. लगता है आज तो बच गए । २०१२ में देखा जायेगा ।

      उत्तर देंहटाएं
    10. जय श्री कृष्ण..आपको बधाई ....आपने बेहद खुबसूरत लिखी हैं....मन को छू देने वाली....सरल और सहज.....हांजी हमने बधाई देने में बहुत देर कर दी...और आपका आभार...बस इसी प्रकार अपनी दुआएं साथ रखियेगा.....हम और ज्यादा अच्छा और दिल से लिखने का प्रयास करते रहेंगे....!!!!
      ---डिम्पल

      उत्तर देंहटाएं
    11. बहुत बहुत बधाई आप सब को हम बच गये जी

      उत्तर देंहटाएं

    आपके आने के लिए धन्यवाद
    लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

     
    Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz