प्रतिभा कुशवाहा कह रही हैं कि टिपियाइए ! मगर ध्‍यान से (अविनाश वाचस्‍पति)

Posted on
  • by
  • अविनाश वाचस्पति
  • in
  • Labels: , ,
  • पाखी पत्रिका के मार्च अंक में ब्‍लॉगनामा में पेज 92 पर प्रकाशित इस लेख का आशय यह है कि टिप्‍पणी का गला मत दबाइए। सही से पढ़ने के लिए इमेज पर क्लिक कीजिएगा


    5 टिप्‍पणियां:

    1. अच्छा आलेख. पढ़्कर टिपियाया है. :)

      उत्तर देंहटाएं
    2. baat bilkul sahilikhi hai charon taraf yahi shor hai sab dekh rahe hain magar majboor hain ......kya kar sakte hain siway iske ki ignore kiya jaye aur sirf apne blog par dhyan diya jaye.
      jo achcha mile use padhiye apne vichar vyakt kariye aur chale aaiye ........isse jyada kuch nhi ho sakta.

      उत्तर देंहटाएं
    3. प्रतिभा जी यह टिप्‍पणी देकर अविनाश जी आपने अच्‍छा ही किया। मैं स्‍वयं जब मौका मिला है यह कहता रहा हूं कि केवल नाइस कहने से काम नहीं चलता। पोस्‍ट पर थोड़ा मंथन भी करें। ब्‍लाग लेखक भी ऐसे मुद्दे सामने रखें जिन पर विचार की जरूरत है। वैसे बात यह भी सही है कि ब्‍लाग लेखक का काम लिखना है। जिसको जो कहना हो वह कहे। पर हां ये‍ टिप्‍पणियां जब टीपीआर का काम करने लगती हैं तो समस्‍या पैदा होती है।

      उत्तर देंहटाएं
    4. मेरी टिप्‍पणी में कृपया टीपीआर की जगह टीआरपी पढ़ें।

      उत्तर देंहटाएं

    आपके आने के लिए धन्यवाद
    लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

     
    Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz