काश ... ज़िन्दगी ख्वाब ही होती तो अच्छा होता

Posted on
  • by
  • आकाँक्षा गर्ग ( Akanksha Garg )
  • in
  • Labels: , , , ,
  •  लड़की की इच्छा क्या है , बस इक पानी का बुलबुला है
    बनना चाहती है बहुत कुछ,करना चाहती है बहुत कुछ !
    जाना चाहती हैं यहाँ वहां, देखना चाहती है सारा जहाँ
    कल्पनाएँ करती रहती है ,सोचना चाहती है बहुत कुछ !


    पूरा पढ़ने और टिप्‍पणी देने के लिए यहां पर क्लिक कीजिए

    4 टिप्‍पणियां:

    1. aakanksha .. ladki ki ichha hi kyon? ladke ki ichha bhi kyon nahin ? tum sab yuva logon ki ichha ki baat honi chahiye..doosri baat..ichha karna jeevan ki sabse khatarnak aur sooksham kala hai .. ye samudr mein tairne jaise hai..udhar ki ichha kabhi na lena chahe vah man de rahi ho ya pita .. khud jeevan ko samjho .. khoob adyayn karo poorana bhi naya bhi .. uske bad ichhaon ke jangal mein kadam rakhna..guruwani ki ek pankti hai"jo mange thakar apne se soi soi deve..with grandlove and regard for you

      उत्तर देंहटाएं

    आपके आने के लिए धन्यवाद
    लिखें सदा बेबाकी से है फरियाद

     
    Copyright (c) 2009-2012. नुक्कड़ All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz